काटवल की खेती से बैगा परिवारों की आय में हो रहा है ईजाफा

 

 

बालाघाट : काटवल (Spine gourd) एक जंगली फसल है, जो वर्षा ऋतु में निकलती है। इसका पौधा खेतों में मेढ़ों में एवं जंगली क्षेत्र में पाया जाता है। इस पौधे का कंद होता है, जिससे प्राकृतिक रूप से वर्षा के दिनों में बेलें निकलती हैं और जुलाई-अगस्त माह में इसके बेले में फल लगने लगते है। इसे काटवल, ककोरा, खैंची के नाम से भी जाना जाता है। इसके फलों का उपयोग सब्जी बनाने में किया जाता है। अपने औषधीय गुणों एवं स्वाद के कारण यह बहुत मंहगे दामों में बिकती है। बालाघाट की सब्जी मंडी में यह 200 से 300 रुपये प्रति किलोग्राम की दर पर बिकती है।

काटवल (Spine gourd) के बीजों से पौधा तैयार करने का प्रयास किया जाता है, लेकिन उसमें सफलता नहीं मिलती है। यदि इसके कंद को खोदकर अन्य स्थानों पर लगाया जाये तो भी उसमें वर्षा के दिनों में बेले नहीं आती हैं या आती भी हैं तो फल बहुत कम संख्या में लगते है। लकिन जिले में बैगा बाहुल्य ग्राम मछुरदा में काटवल (Spine gourd) की खेती को प्रोत्साहन देकर उद्यानिकी विभाग एवं कृषि विज्ञान केन्द्र बड़गांव के वैज्ञानिकों ने सफलता पूर्वक नवाचार किया है।
बिरसा के उद्यान विस्तार अधिकारी श्री हरगोविंद धुवारे ने बताया कि बालाघाट जिले के अति संवेदनशील नक्‍सल प्रभावित क्षेत्र जंगल के सुदुर मछुरदा में बैगा परिवारों के लिए काटवल (Spine gourd) की खेती रोजगार और आय का नया साधन बनने जा रही है।

मछुरदा एवं अन्य सुदूर ग्रामों में छोटे-छोटे रकबे 05 डिसमिल से 25 डिसमिल में लगभग 20 से 22 परिवार को विगत दो-तीन वर्ष से उद्यानिकी विभाग के मैदानी अधिकारी से तकनीकी जानकारी प्राप्त कर काटवल (Spine gourd) खेती कर रहे है। बैगा परिवार 10 डिसमिल में बिना खाद कीटनाशक के एक क्विंटल से 10 हजार रूपये की आय दो माह में प्राप्त कर है। जो कि स्थािनीय अन्यट फसल धान, मक्कां, सरसो की एक एकड़ की खेती के बराबर आय है और मात्र दो माह में हो रही है।

श्री धुवारे ने बताया कि बैगा परिवारों के लिए असिंचित क्षेत्र, जंगलो में काटवल (Spine gourd) का रकबा 100 परिवार के लिए डिसमिल से 04 हेक्टेनयर में आगामी प्रथम वर्ष प्रदर्शन के रूप में आत्माम परियोजना एवं अन्ये मद से पौधे उपलब्धक कराकर इनका रकबा बढ़ाए जाने का प्रयास जारी है।

नव भारत न्यूज

Next Post

मप्र में 24 घंटे में 7 नए कोरोना केस

Sun Aug 29 , 2021
प्रदेश में 12 दिनों में 100 पॉजिटिव भोपाल, . मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों ंके 16 नए केस आने के एक दिन बाद शनिवार को 7 नए पॉजिटिव मिले हैं, इसमें भोपाल में सबसे ज्यादा 3, धार में 2, इंदौर और रायसेन में 1-1 संक्रमित मिला है. छोटे जिलों के […]