खंडवा: बिना तैयारी के निकाय चुनाव में उतरेंगे दोनों दल

खण्डवा: नगरीय निकाय चुनाव अचानक आ धमके हैं। इससे दोनों प्रमुख दलों की जिले में कोई तैयारी नहीं है। नेताओं को जनसेवक बनने के लिए वक्त कम मिलेगा। सत्तारूढ़ भाजपा के हाथ में चाबी है। संघ व संगठन भी है। कांग्रेस में तो कोसों दूर तक संगठन नजर नहीं आता। कार्यकर्ता कोई नहीं है। सभी दावेदार नजर आ रहे हैं। हालांकि दलों के दल-दल से पंचायतों के इस चुनाव को दूर रखा जाएगा। फिर भी नगर निगम व नगर पंचायतों में ऐसा देखने को नहीं मिलेगा।

खंडवा जिले की बात करें तो नगर निगम में विपक्ष के लिए मुद्दों की भरमार है। कांग्रेस के पास इन्हें भुनाने का वक्त और कार्यकर्ता दोनों नहीं हैं। मूंदी,पंधाना और ओंकारेश्वर नगर परिषदें हैं। खालवा को नगर पंचायत का दर्जा मिलते मिलते रह गया। यहां अब ग्राम पंचायत के ही चुनाव होंगे।भाजपा सरकार के लिए मुसीबत बढ सकती है। तेल मालिकों ने मुनाफा बढ़ा दिया। केंद्र सरकार के साथ राज्य सरकार भी मोटा टैक्स वसूल रहा है। अतिक्रमण हटाने में पूरे समय भाजपा ने दिलचस्पी नहीं दिखाई।

मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग भोपाल के निर्देश अनुसार माह जून में नगरीय निकाय/ त्रिस्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन की सरकारी तैयारी शुरू हो गई। मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने खंडवा कलेक्टर से भी जानकारी मांगी। संयुक्त कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी कुमार शानू देवडिय़ा ने रिटर्निंग अधिकारी एवं तहसीलदार, नायब तहसीलदार खण्डवा, पुनासा, पंधाना, हरसूद, बलड़ी, छैगांवमाखन, खालवा से कहा कि वे अपने अपने क्षेत्र में अस्थाई स्ट्रांग रूम स्थापित करने की जानकारी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्थानीय निर्वाचन) कार्यालय में दें।

वैसे तो नगरीय सीमा क्षेत्र अंतर्गत शहर को 50 वार्डो में समायोजित कर शहर को झोनों में बांटा गया है,लेकिन इसके बाद नगर निगम की शहर को अतिक्रमण मुक्त करने की बात झूठी साबित होती दिखाई देती है, क्योंकि शहर में नुक्कड़, चौराहों से लेकर गलियों में अतिक्रमणकारियों द्वारा स्थायी अतिक्रमण करते हुए गुमटियां रख दी है। शुद्ध पेयजल, चिकनी सड़कें, व्यवस्थित कालोनियाँ, रिंगरोड, सिवरेज सिस्टम, स्वीमिंग पूल, फोरलेन,सुंदर चौराहे, बगीचों में हरियाली के साथ तीन पुलिया व लालचौकी पर ओव्हरब्रिज का संकल्प ये सारे सपने यहा नगर निगम चुनाव में विधायक और महापौर के थे। नगर निगम चुनाव अभी दूर है।

नव भारत न्यूज

Next Post

भाजपा का आरोप : कांग्रेस पिछडा वर्ग का हित नहीं चाहती

Sat May 14 , 2022
कहा – किसी भी रिपोर्ट पर सौ प्रतिशत आरक्षण दिया नहीं जा सकता इसलिये हमने ३५ प्रतिशत आरक्षण की मांग की है ग्वालियर: भाजपा के प्रदेश महामंत्री रणवीर रावत, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्र सिंह तोमर, सांसद विवेक शेजवलकर एवं पार्टी के जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी ने आज संयुक्त प्रेस कोंफ्रेस में कांग्रेस […]