विजयवर्गीय की असम का रिकार्ड तोडऩे की जिद

मालवा- निमाड़ की डायरी
संजय व्यास

इसमें कोई संशय नहीं कि भाजपा नेता व मंत्री कैलाश विजयवर्गीय जो ठान लेते हैं उसे पूरा करके ही दम लेते हैं. इस बार प्रधानमंत्री मोदी के एक पौधा मां के नाम अभियान को गति देने उन्होंने इंदौर क्षेत्र में इस मानसून 51 लाख पौधे रोपने का संकल्प लिया इसके लिए उन्होंने सरकारी उपक्रमों के साथ विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, रहवासी संघों, उद्यमियों को सहयोग के लिए तैयार किया है. इसके लिए अनेक चयनित स्थानों पर गड्डे खोदने का क्रम जोर-शोर से जारी है. अब तक 40 लाख से ज्यादा गड्डे तैयार हो चुके हैं.

अभी पितृ पर्वत पर आयोजित एक कार्यक्रम में 3 लाख पौधे लगा रोप कर महाअभियान की शुरूआत के साथ सीएम मोहन यादव के हाथों रेवती रेंज, बिजासन क्षेत्र समेत अन्य इलाकों में पौधे लगाए गए. रेवती रेंज, बिजासन क्षेत्र के पौधों की देखभाल का जिम्मा बीएसएफ ने लिया है. अब विजयवर्गीय की जिद असम में एक दिन में लगाए गए 9.20 लाख पौधे लगाने का रिकार्ड तोडऩे की है. उन्होंने एक दिन में 11 लाख पौधे रोपने का तय किया है. इस आयोजन में शामिल होने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को आमंत्रित किया है. असम का रिकार्ड तोडऩे के लिए अब विजयवर्गीय को 14 जुलाई का इंतजार है. इस बीच प्रधानमंत्री मोदी द्वारा प्रेषित पत्र में पौधारोपण अभियान हेतु मिली प्रशंसा से कैलाश विजयवर्गीय और आयोजन सहयोगियों का उत्साह दोगुना हो गया है.

कार्यकर्ताओं में जान फूंकने पटवारी के जतन

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का भार मिलने के बाद से ही वरिष्ठ नेताओं के असहयोग और निष्क्रिय पदाधिकारी- कार्यकर्ताओं से हैरान जीतू पटवारी हर जतन कर रहे हैं कि जनता में कांग्रेस की सक्रियता का अहसास बना रहे. प्रदेश सत्ता से दूर, हाल के लोक सभा चुनाव में पार्टी का हश्र से उबर कर पटवारी कार्यकर्ताओं को भाजपा सरकार के खिलाफ मुद्दे उठाने की चेतना में लगे हैं. पार्टी कार्यकर्ताओं में जीवंतता के लिए उन्होंने नर्सिंग घोटाले को लेकर आंदोलन का टास्क दिया है. पटवारी ने कार्यकर्ताओं को स्पष्ट कर दिया है कि पार्टी नर्सिंग घोटाले को लेकर राज्य की भाजपा सरकार को घेरना जारी रखेगी, हम लड़ाई जारी रखेंगे, हम सबूत लेकर अदालत जाएंगे, हम सडक़ों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे, क्योंकि चार लाख से अधिक छात्रों का भविष्य खतरे में है. इसके साथ ही पटवारी ने उमंग सिंघार से मनमुटाव की अटकलों को उनकी तारीफ कर विराम दे दिया. विगत दिवस उन्होंने विधानसभा में घोटाले को आक्रामक तरीके से उठाने के लिए नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार की सराहना की.

प्रभावी नेताओं की कमी से जूझ रही खंडवा कांग्रेस

खंडवा जिला कांग्रेस इन दिनों प्रभावी नेताओं की कमी से जूझ रही है. जिनके इशारों पर जिले की कांग्रेस चलती थी, आज वे भाजपा में जा चुके हैं. कुछ माह में दिग्गज नेता गुरमीत सिंह उबेजा,ं पूर्व महापौर अणिमा उबेजा, महेन्द्र सावनेर अध्यक्ष जनपद पंचायत छैगांव माखन, इन्दल सिंह पवार पूर्व अध्यक्ष शहर कांग्रेस, रिंकु योगेन्द्र सोनकर शहर संगठन मंत्री, पूर्व पार्षद ओम सिलावट, कन्हैया वर्मा, राजेन्द्र चांदमल जैन आदि भाजपा व अन्य पार्टियों में शामिल हो गए है. चुनावों से फुरसत होते ही अब जिला कांग्रेस कमेटी खण्डवा इन नेताओं से स्पष्टीकरण मांग खानापूर्ति कर रही है. इन्हें सभी पदों से 6 वर्ष के लिए निष्काषित भी कर दिया गया, जबकि अन्य दल में जाने के बाद इसका कोई औचित्य भी नहीं है.

Next Post

आईडीए पश्चिम क्षेत्र में बनाएगा अहिल्या पथ

Wed Jul 10 , 2024
पहले चरण में 15 किलोमीटर लंबी और 75 में चौड़ी होगी सड़क 1400 हेक्टेयर जमीन पर 5 योजनाएं प्रस्तावित इंदौर: आईडीए पश्चिम क्षेत्र में एयरपोर्ट के आगे से  उज्जैन रोड को जोड़ने वाली 15 किलोमीटर लंबी और 75 मीटर चौड़ी सड़क बनाएगा। इसकी लागत 4 सौ करोड़ रुपए होगी। यह […]

You May Like