कोयला ढुलाई को प्राथमिकता दे रही है भारतीय रेल

नयी दिल्ली,  (वार्ता) भारतीय रेल ने शनिवार को कहा है कि उसने कोयला पर आधारित ताप बिजली घरों तक इंधन पहुंचाने के काम में तेजी लाने के लिए अप्रैल में कई ठोस उपाय किए हैं और इस समय बिजली घरों को कोयला पहुंचाने के कामों को अधिक प्राथमिकता दी जा रही है।
रेल मंत्रालय ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि भारतीय रेल ने अप्रैल-मार्च 2021-22 के दौरान कोयले की ढुलाई 11.1 करोड़ टन से बढ़ाकर कुल 65.3 करोड़ टन कोयला ढोया। यह इससे पिछले वर्ष के 54.2 करोड़ टन की तुलना में 20.4 प्रतिशत अधिक है।
बयान के मुताबिक सितंबर-मार्च 2021-22 की छमाही के दौरान रेलवे से कोयले की ढुलाई में 32 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी।
बयान के मुताबिक इस साल अप्रैल में भारतीय रेल ने कोयला पहुंचाने के काम को प्राथमिकता देने के लिए कई नए उपाय किए, जिससे उसके द्वारा की गई कोयला आपूर्ती में एक सप्ताह के अंदर दस प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी।
मंत्रालय के अनुसार भारतीय रेल इस समय कोयल की गाड़ियों के प्रचालन को प्रथमिकता दे रही है। माल लादे जाने से लेकर उतारे जाने तक कोयला ट्रेनों की निरंतर सघन निगरानी की जा रही है। इसके चलते खानों से दूर के बिजली घरों तक कोयला पहुंचने का समय 12 से 36 घंटे कम हुआ है।
दूर की कोयला ट्रेनों को प्रथमिकता देने से एक से दस अप्रैल की तुलना में पिछले पांच दिनों में कोयला ट्रेनों के कार्य प्रदर्शन (औसत लीड) सात प्रतिशत बढ़ गया है।
उन्होंने कहा कि इससे एक ही ट्रेन के दूसरे लदान के समय में दस प्रतिशत की कमी आई है।

नव भारत न्यूज

Next Post

आईसीआईसीआई बैंक का चौथी तिमाही का लाभ 60 % उछल कर 7018.7 करोड़ रुपये

Sun Apr 24 , 2022
नयी दिल्ली,  (वार्ता) निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक ने 31 मार्च 2022 को समाप्त हुए पिछले वित्त वर्ष के चौथी तिमाही में एकल आधार पर 7018.7 करोड़ रुपये का लाभ कमाया। यह एक साल पहले इसी अवधि की तुलना में 59.4 प्रतिशत अधिक है। पिछले साल इसी तिमाही में बैंक […]