मजदूर की बेटी ने बगैर किसी कोचिंग के गेट परीक्षा पास कर दिखाया

संजय पाण्डेय
रीवा:  रीवा के एक छोटे से गांव में रहने वाली मजदूर पिता की बेटी ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली इंजीनियरिंग गेट परीक्षा पास कर रीवा का नाम रोशन किया. बचपन से मेधावी छात्रा रही और पहले प्रयास में ग्रेजुएट एप्टीट्यूट टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) परीक्षा पास कर दिखाया. यूट्यूब के माध्यम से तैयारी की. गढ़ थाना अन्तर्गत लौरी नं. 3 निवासी रामकली कुशवाहा पिता चंद्रिका कुशवाहा ने गेट परीक्षा पास कर दिखाया.

बगैर किसी सुविधा एवं संसाधन के अपनी कड़ी मेहनत और लगन के साथ परीक्षा पास की. प्राथमिक शिक्षा कक्षा 1 से 4 तक सरस्वती ज्ञान मंदिर गढ़ कक्षा 5-8 तक लौरी में स्वामी विवेकानंद माध्यमिक स्कूल से तथा कक्षा 9-12 तक गांधी ग्रामोदय हायर सेकेंडरी स्कूल गढ़ तक इसके बाद शिक्षक समीर वर्मा के मार्गदर्शन से बच्ची बीटेक जेएनसीटी मनगवां तथा 1 वर्ष बाद रीवा जेएनसीटी से बीटेक की पढ़ाई पूर्ण की. इंजीनियरिंग गेट की परीक्षा में सम्मिलित हुई. जहां राष्ट्रीय सिविल इंजीनियरिंग में ऑल इंडिया 3290 रैंक हासिल की और साथ ही एनवायरमेंट साइंस इंजीनियरिंग में ऑल इंडिया 435 रैंक प्राप्त की.

पिता गांव में खपरैल मकान में रहते है और मजदूरी का कार्य करते हैं दो भाई बहन घर में है पिता मजदूरी करके बच्चों को शिक्षा प्रदान करा रहे हैं. गांव में जैसे ही यह खबर पहुंची बधाइयां देने वाले का तांता लग गया. जहां भारतीय जनता पार्टी मंडल उपाध्यक्ष रमाकांत भारती द्वारा यह कहा गया कि बच्ची की पढ़ाई में जो भी खर्च लगेगा इसकी मदद विधायक-सांसद और सरकार के माध्यम से कराने का प्रयास करूंगा. आज जहां गांव में से लेकर शहर तक कई संपन्न बालक परीक्षाएं पास नहीं कर पा रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ यह बालिका युवाओं के लिए एक उदाहरण है कि बिना किसी प्राइवेट ट्यूशन कोचिंग के भी परीक्षाएं पास की जा सकती हैं बालिका मोबाइल यूट्यूब के माध्यम से घर में प्रतिदिन 8 घंटे शिक्षण कार्य करती है.

नव भारत न्यूज

Next Post

अचलेश्वर विहार कालोनी में कलश यात्रा के साथ श्रीमद भागवत शुरू

Wed Mar 23 , 2022
ग्वालियर:  श्रीमद भागवत और रामायण पूरी दुनियां के सबसे पवित्र ग्रंथ हैं इसके सिद्धांतों को अपने जीवन में यदि व्यक्ति उतार ले , तो उसकी नैय्या पृथ्वीलोक में ही भवसागर से पार हो जाती है। श्रीमद भागवत में जितना भी आप समय दें कम है, स्वयं देवी देवता भी कथा […]