अभी भी 24 तालाब प्यासे

दस हजार हेक्टेयर में सिंचाई हो सकती है प्रभावित

मंदसौर:  इस साल बारिश का आंकड़ा जरुर पिछले साल से ज्यादा है, लेकिन चौबीस तालाबा अभी भी प्यासे हैं। मतलब 24 तालाब खाली होने के कारण दस हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई प्रभावित हो सकती है। फिलहाल अभी भी अच्छी बारिश की उम्मीद है। जिले में अब तक करीब 25 इंच बारिश हो चुकी है। जो गतवर्ष हुई पूरी बारिश से भी 2 इंच अधिक है। इस बार खंड बारिश (कुछ-कुछ क्षेत्रों) अधिक हुई। इससे जिन क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई वहां के तालाबों में पानी आ गया। जहां पानी कम गिरा वहां तालाब खाली रह गए। जिले में जल संसाधन विभाग के पास करीब 69 तालाब हैं। इसमें से 31 तालाब पूरी तरह लबालब हो गए हैं।

24 तालाब ऐसे हैं जो अभी भी पूरी तरह खाली हैं। इनमें लोएस्ट सील लेवल से भी नीचे पानी है। जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार तालाब में एक लेवल होता है। इससे ऊपर पानी आने पर सिंचाई के लिए कैनाल शुरू की जा सकती है। जिले के 24 तालाबों में पानी तो है लेकिन उनका लेवल अभी भी एलएसएल से कम है। 10 तालाब ऐसे हैं जिनमें 50 फीसदी तक पानी है।आने वाले समय में भी यही स्थिति रही तो सिंचाई पर इसका असर होगा। जलसंसाधन विभाग द्वारा इन तालाबों से जिले में करीब 22 हजार हेक्टेयर में सिंचाई के लिए पानी दिया जाता है। वर्तमान में इन तालाबों में 49.75 फीसदी पानी जमा है। यही स्थिति रहती है तो 50 फीसदी सिंचाई प्रभावित होगी। अच्छी बात यह है कि मौसम विभाग ने गुरुवार से ही जिले में बारिश की संभावना जताई है।

ऐसी है जिले में तालाबों की स्थिति
-24 तालाब जिनमें पानी की मात्रा ना के बराबर है।
-31 तालाब ऐसे हंै जो 100 फीसदी भर चुके हैं।
-10 तालाबों में 50 फीसदी से भी कम पानी है।
-04 तालाबों में 51 से 99 फीसदी तक है पानी।

नव भारत न्यूज

Next Post

मालवा निमाड़ में नेतृत्व शून्यता को भरने की कोशिश

Sat Aug 21 , 2021
भाजपा और संघ परिवार के लिए महत्वपूर्ण है मालवा निमाड़ अंचल, ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रोजेक्ट करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है पार्टी के पास भीड़ भरे स्वागत के साथ तीन दिवसीय जन आशीर्वाद यात्रा का इंदौर में गुरुवार को समापन मिलिंद मुजुमदार इंदौर : केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को […]