प्रसिद्ध बढ़ौरा शिव मंदिर के खस्ताहाल मार्ग की किसी ने नही ली सुध.

वर्षों से जर्जर राष्ट्रीय राजमार्ग 39(75) की एक्टेंशन सड़क बढ़ौरा के सुधार की कोई भी सड़क निर्माण एजेंसी जिम्मेदारी लेने को तैयार नही, सड़क निर्माण हेतु जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासन के प्रयास की दरकार

सीधी :  जिले के प्रसिद्ध बढ़ौरा शिव मंदिर के खस्ताहाल मार्ग की अभी तक किसी ने सुध नहीं ली है। वर्षों से जर्जर राष्ट्रीय राजमार्ग-39(75) की एक्सटेंशन सड़क बढ़ौरा के सुधार की कोई भी सड़क निर्माण एजेन्सी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है। ऐसे में सड़क निर्माण हेतु जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासन के प्रयासों की दरकार है।बताते चलें कि यह सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 75 का हिस्सा थी। सड़क के किनारे ही मंदिर पहुंचने के लिये मुख्य गेट था। राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 39 में तब्दील होने के बाद इसका टू-लेन निर्माण कराया गया। निर्माण के दौरान मंदिर पहुंच मार्ग को छोड़ दिया गया। करीब एक किलोमीटर सड़क का निर्माण हो जाए तो श्रद्धालुओं को गेट तक पहुंचने में हो रही भारी परेशानी दूर जायेगी। पीडब्ल्यूडी द्वारा मंदिर के मुख्य गेट से लेकर पुल तक सड़क निर्माण के लिये संविदाकार नियुक्त किया गया है। संविदाकार द्वारा भी अभी तक मुख्य गेट के अंदर की सड़क का निर्माण शुरू नहीं किया गया है। इस मामले में जनप्रतिनिधि भी पूरी तरह से मूकदर्शक बने हुये हैं।

महाशिवरात्रि में हजारों की संख्या में आते हैं श्रद्धालु
प्रसिद्ध बढ़ौरा शिव मंदिर में आने वाले महाशिवरात्रि पर्व पर हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ पहुंचेगी। मंदिर पहुंच मार्ग की हालत काफी खस्ताहाल होने के कारण श्रद्धालुओं को मुख्य गेट तक पहुंचने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। महाशिवरात्रि पर यहां भव्य मेला का आयोजन भी होता है। जहां श्रद्धालुओं की भीड़ द्वारा मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद आवश्यकतानुसार खरीदी भी की जाती है। यहां जिले के बाहर के श्रद्धालु भी काफी संख्या में आते हैं।

मंदिर पहुंच मार्ग में पुल निर्माण की भी दरकार
बढ़ौरा शिव मंदिर पहुंच मार्ग में मुख्य गेट के अंदर स्थित पुराना छोटा पुल बरसात के दिनों में पानी में पूरी तरह से डूब जाता है। उस दौरान श्रद्धालुओं का मंदिर पहुंचने का मार्ग भी अवरूद्ध हो जाता है। कई बार पुल के ऊपर पानी होने के बाद भी कुछ श्रद्धालु जोखिम उठाकर पुल को पार करते हैं। यदि यहां के पुराने पुल के स्थान पर रेलिंग के साथ ऊंचे पुल का निर्माण हो जाए तो श्रद्धालुओं को बरसात के दिनों में भी मंदिर में पूजा-अर्चना करने में कोई असुविधा नहीं होगी।

इनका कहना है

प्रसिद्ध बढ़ौरा शिव मंदिर की ख्याति दूर-दूर होने के कारण यहां श्रद्धालुओं की आवाजाही हमेशा बनी रहती है। मुख्य गेट के पहले सड़क न होने से श्रद्धालुओं को पत्थरों के चलते काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जल्द से जल्द व्यवस्थित सड़क का निर्माण सुनिश्चित कराना चाहिए।
सतीश गुप्ता समाजसेवी , सीधी

प्रसिद्ध बढ़ौरा मंदिर तक पहुंच मार्ग की सुविधा पर अभी तक संबंधित विभाग ने ध्यान नहीं दिया है। मूलत: यह एनएच की सड़क थी अब मंदिर तक पहुंचने के मार्ग की दुर्दशा हो गई है। सत्ताधारी दल के जनप्रतिनिधियों एवं जिला प्रशासन को भी इस पर गंभीरता से पहल करना चाहिए।
लक्ष्मीकांत शुक्ला अध्यक्ष
जल उपभोक्ता संथा बढ़ौरा

नवभारत द्वारा वास्तव में इस प्रमुख समस्या को संज्ञान में लाया गया है। इस ओर मैं प्रशासन एवं अपने जनप्रतिनिधियों से बात करूंगा जिससे इस समस्या का जल्द समाधान हो जाए और सड़क निर्माण हो सके।
संजय सिंह चौहान अध्यक्ष
भाजपा मंडल सेमरिया

पंचायत को इतनी धनराशि नहीं मिलती जिससे सड़क का निर्माण कराया जाए। प्रशासन या जनप्रतिनिधियों के बजट उपलब्ध कराये बिना पंचायत सड़क का निर्माण कराने में सक्षम नहीं है। यदि बजट मिलता है तो पंचायत निर्माण करा सकती है।
सुधीर तिवारी
सचिव
ग्राम पंचायत बरिगवां नं.2

नव भारत न्यूज

Next Post

रूस यूक्रेन संकट से शेयर बाजार में गिरावट जारी

Tue Feb 22 , 2022
मुंबई 22 फरवरी(वार्ता) रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ते संकट के कारण वैश्विक बाजार में हो रही गिरावट का असर आज घरेलू बाजार पर भी बना रहा जिससे शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गयी। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 382.91 अंक गिरकर 57300.68 अंक पर और […]