एक अक्टूबर के बाद निर्मित आठ सीट वाले यात्री वाहनों में साइड एयर बैग लगाना अनिवार्य

नयी दिल्ली,  (वार्ता) सरकार इस साल एक अक्टूबर के बाद निर्मित किए जाने वाले आठ सीट के वाहनों में सुरक्षा के लिए समुचित संख्या में उचित जगहों पर एयर बैग लगाना अनिवार्य करना चाहती है।

इस बारे में जारी अधिसूचना के मसौदे के अनुसार एम1 वर्ग के वाहनों में दो साइड/दो साइड टॉरसो एयर बैग तथा दो साइड कर्टन/ट्यूब एयर बैग लगाना जरूरी होगा।

सड़क यातायात और राजमार्ग मंत्रालय ने एम 1 वर्ग के वाहनों में ड्राइवर एयरबैग को वाहन चालकों की सुरक्षा के लिये उन सभी वाहनों के लिये अनिवार्य कर दिया गया था, जो वाहन एक जुलाई, 2019 को और उसके बाद निर्मित किये गये।
एयरबैग दुर्घटना होने की स्थिति में वाहन चालक और गाड़ी के सामने वाले हिस्से के बीच गुब्बारे की तरफ फूलकर वाहन चालक को गंभीर रूप से घायल होने से बचा है।

इसके बाद, मंत्रालय ने एम 1 वर्ग के वाहनों में चालक के बगल की सीट की सवारी की सुरक्षा के लिये फ्रंट एयरबैग लगाने का आदेश एक जनवरी, 2022 से प्रभावी किया।

वाहन में बैठे लोगों की भीषण टक्कर से सुरक्षा बढ़ाने के लिये केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन करके उसमें दिये गये सुरक्षा शर्तों में इजाफा कराने का निर्यय लिया गया है।
शुक्रवार को जारी ताजा अधिसूचना के मसौदे के अनुसार एम 1 वर्ग के वाहनों के लिये यह अनिवार्य कर दिया गया कि एक अक्टूबर, 2022 के बाद निर्मित सभी यात्री वाहनों में दो साइड/साइट टॉरसो एयरबैग लगाये जायें तथा दो साइड कर्टन/ट्यूब एयरबैग लगाये जायें।
इस तरह आगे और पीछे, दोनों कंपार्टमेंट में बैठे लोगों के सामने और पीछे से होने वाली टक्करों के असर को कम किया जा सकेगा।

नव भारत न्यूज

Next Post

खंडेलवाल ओएनडीसी की सलाहकार परिषद से हुए अलग

Sun Jan 16 , 2022
नयी दिल्ली,  (वार्ता) खुदरा व्यवसायियों के प्रमुख संगठन कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने ई-कामर्स के लिए केंद्र सरकार की पहल ओपन नेटवर्क फार डिजिटल कामर्स (ओएनडीसी) की सलाहकार परिषद से नैतिक आधार पर अपने को अलग करने की शनिवार को घोषणा की। कैट खुद […]