खटुआ हत्याकांड मामले में सुनवाई टली

पुलिस अधीक्षक की उपस्थिति का आदेश बरकरार

जबलपुर:  देश की पहली स्वेदशी आर्टलनी गन धनुष में चायनिंग बैरिंग घोटाले की जांच में सीबीआई के निशाने पर रहें जूनियर वर्कस मैनेजर शारदा चरण खटुआ की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गयी थी। मृतक की पत्नी ने हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग करते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर कीगयी थी। जस्टिस नंदिता दुबे ने शुक्रवार को समय आभाव के कारण याचिका पर अगली सुनवाई 18 जनवरी को रखी है। एकलपीठ ने पुलिस अधीक्षक की व्यक्तिगतउपस्थिति के आदेश को बरकरार रखा है।

उल्लेखनीय है कि याचिकाकर्ता मौसमी खटुआ की तरफ से साल 2019 में दायर याचिका में कहा गया था कि उसे पति एससी खटुआ उम्र 45 गन कैरिज फैक्टरी में जूनियर वर्क मैनेजर के पद पर पदस्थ थे। जीसीएफ को धनुष आर्टलरी गन 155 एमएम के निर्माण का प्रोजेक्ट मिला था। गन में उपयोग होने वाला वायरलैस रोलिंग बैरिंग के ठेका दिल्ली की सिध्दी सेल्स को दिया गया था। कंपनी द्वारा चायना मेड बैरिंग में मेड इन जर्मन की सील लगाकर सप्लाई की गयी थी।

दिल्ली सीबीआई इस मामले की जांच कर रही थी और पूछताछ के लिए 17 जनवरी 2019 को तलब किया था। उनके पति 17 जनवरी 2019 की सुबह घर से निकले थे,जो वापस नहीं लौटे। बीस दिन बाद उसके पति की क्षतविक्षित लाश शासकीयनिवास से एक किलोमीटर दूर पंप हाउस के पास 5 फरवरी को मिली। फैक्टरी क्षेत्र में मैन गेट में लगे सीसीटीव्ही कैमरे में उसके पति आते हुए दिखाई दे रहे थे। उसके पति के हत्या फैक्टरी क्षेत्र में की गयी है। मामले में सीबीआई जांच की राहत चाही गई है। शुक्रवार को समय आभाव के कारण याचिका को सुनवाई के लिए 18 जनवरी को प्रस्तुत करने के निर्देश दिये है। याचिका कर्ता की ओर से अधिवक्ता मुकेश कुमार मिश्रा पैरवी कर रहे है।

नव भारत न्यूज

Next Post

जबलपुर से प्रिंसिपल सीट हटाने संबंधी नोटिफिकेशन पर रोक

Sat Jan 15 , 2022
हाईकोर्ट में अगली सुनवाई 2 मार्च को जबलपुर:मप्र हाईकोर्ट की जबलपुर बेंच से प्रिंसिपल सीट हटाने के नोटिफिकेशन को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। चीफजस्टिस रवि विजय कुमार मलिमठ व जस्टिस पीके कौरव की युगलपीठ ने उक्तनोटिफिकेशन के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी है। युगलपीठ […]