कोरोना जांच रिपोर्ट में देरी खतरे में डाल रही जिंदगी

संक्रमितों की संख्या में इजाफा होते ही हांफने लगी कोविड लैब

जबलपुर:  कोरोना की मजबूत होती चेन के पीछे एक बड़ा कारण लैब में लंबित पड़ी हजारों जांच रिपोर्ट हैं। दरअसल जिले में जैसे-जैसे कोरोनासंक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है, वैसे-वैसे कोरोना लैब हांफने लगी है। आलम यह है कि कोरोना जांच की जो रिपोर्ट संक्रमितों तक एक दिन में पहुंचती थी, वह आज की तारीख में तीन से चार दिन बाद पहुंचने लगी है। ऐसे में देर होती जांच रिपोर्ट अब लोगों की जिंदगी को संकट में डालने लगी है।
रिपोर्ट के इंतजार में मरीज, बढ़ रहा संक्रमण
कोरोना जांच में हो रही देरी से जिले में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढऩे  लगी है। लक्षण के बाद लोग जांच के लिए पहुंच रहे हैं मगर, रिपोर्ट आनेमें 3 से 4 दिन का लंबा समय लगने के कारण मरीज की हालत बिगडऩे के साथ ही संक्रमण भी तेज हो रहा है। कारण रिपोर्ट के इंतजार में मरीज न तो अपना पूरा इलाज शुरू कर पाते हैं और ना ही खुद को आइसालेट करते हैं।
हजारों रिपोर्ट अटक रहीं
मेडिकल समेत करीब 6 प्राइवेट लैब में कोविड जांच हो रही है। मेडिकल की रिपोर्ट तो चौबीस घंटेे में प्राप्त हो जाती है परंतु प्राइवेट लैबों में
भेजे गए सैंपलों की रिपोर्ट देरी से आ रही है। सूत्रों की माने तो रोजना हजारों की संख्या में रिपोर्र्ट अटक रही है।
ये देरी बन रही संक्रमण फैैलने का कारण-
बहुत से लोगों को सर्दी, खांसी जुकाम और बुखार है और वह जांच कराने के बाद घर में रह कर रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। जिस कारण जांच कराने वाले मरीज और उनके परिवार के लोग परेशान हैं। मरीजों के साथ साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को रिपोर्ट के आने का
इंतजार है। इस दौरान कोरोना जांच के लिए सैंपल देने के बाद जहां लोगों को अपने घर में ही रहना चाहिए, वे सैंपल देने के बाद या तो घूम रहे हैं या लोगों से मिलजुल रहे हे ऐसे में संक्रमण तेजी से फैल रहा है।
1 जनवरी में था मात्र 1 संक्रमित, 12 दिन में ऐसे बढ़ा आंकड़ा
तारीख   सैंपल जांच  संक्रमित मिले        एक्टिव केस
1 जनवरी    5312     01            29
2 जनवरी    5206     04            30
3 जनवरी    5310     21              50
4 जनवरी    5323    23             73
5 जनवरी    5150    70             143
6 जनवरी    5091     92            235
7 जनवरी    5078            96             329
8 जनवरी    5047    152             466
9 जनवरी    5206    190            644
ृ10 जनवरी   5300     242             865
11 जनवरी   5215    210            1052
12 जनवरी   5350    277            1327
इनका कहना है
मेडिकल समेत प्राइवेट लैबों में कोविड जांच हो रही है। प्राइवेट लैबों से
रिपोर्ट देरी से आ रही है। कोरोना जांच का सैंपल देने के बाद लोगों को तब
तक होम आइसोलेशन में रहना चाहिए, जब तक कि उनकी जांच रिपोर्ट नहीं मिल
जाती है।
डॅा. प्रियंक दुबे, कोविड सैंपल प्रभारी

नव भारत न्यूज

Next Post

समेकित प्रयास से कम करें जिले की शिशु-मातृ मृत्यु दरः कलेक्टर

Fri Jan 14 , 2022
स्वास्थ्य और महिला बाल विकास के अधिकारियों की बैठक सतना : कलेक्टर अनुराग वर्मा ने स्वास्थ्य और महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को स्वास्थ्य सेवाओं के दक्षता पूर्ण क्रियान्वयन, संपूर्ण टीकाकरण और दोनो विभागों के समेकित प्रयास से जिले की शिशु मृत्यु दर और मातृ मृत्यु दर में कमी […]