पॉजिटिव मरीज होम क्वारंटाइन के दौरान घर से बाहर घूमता पाया गया तो होगी एफआईआर

ग्वालियर कलेक्टर ने कोविड की समीक्षा बैठक में दिए सख्त निर्देश

ग्वालियर:  कोविड-19 में पॉजिटिव मरीजों को होम क्वारंटाइन के दौरान पूरी तरह से अपने घर में आईसोलेट होकर रहना अनिवार्य है। पॉजिटिव सभी मरीजों के मोबाइल को सर्वलांस पर रखा गया है। कोई भी पॉजिटिव मरीज अगर घर के बाहर घूमता पाया गया तो उसके खिलाफ धारा-144 के तहत एफआईआर दर्ज कराई जायेगी। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रबंधनों की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए।कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित इस बैठक में कोविड अनुरूप नागरिक व्यवहार करें, इस पर चर्चा की गई। इसके साथ ही कोविड के उपचार के लिए किए जाने वाले प्रबंधनों पर भी विस्तार से चर्चा कर दिशा-निर्देश दिए गए। बैठक में सीईओ जिला पंचायत आशीष तिवारी, सीईओ स्मार्ट सिटी श्रीमती जयति सिंह, एडीएम इच्छित गढ़पाले एडीएम एच बी शर्मा सहित सभी इंसीडेंट कमाण्डर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर ने इंसीडेंट कमाण्डरों को निर्देशित किया है कि कोविड-19 के तहत होम क्वारंटाइन कोई भी व्यक्ति घर के बाहर घूमता नहीं पाया जाना चाहिए। ऐसे सभी मरीजों के मोबाइल ट्रेसिंग पर रखे जाएं और कोई भी व्यक्ति बाहर घूमता पाया जाए तो उसके खिलाफ धारा-144 के तहत पुलिस प्रकरण कायम कराया जाए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि जिस क्षेत्र में भी कोविड का पॉजिटिव मरीज पाया जाता है, उसके घर के आस-पास को बैरीकेटिंग के माध्यम से केन्टोनमेंट जोन बनाया जाए। इसके साथ ही सर्वेक्षण का कार्य भी प्राथमिकता के आधार पर कराया जाए।

कलेक्टर ने इंसीडेंट कमाण्डरों को यह भी निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में बिना मास्क के घूमने वालों के विरूद्ध चालान की कार्रवाई करें। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के लिये सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के बाहर गोले बनाने का कार्य भी किया जाए। जिन व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर बिना मास्क एवं बिना सोशल डिस्टेंसिंग के कारोबार होता पाया जाए, ऐसे प्रतिष्ठानों को बंद कराने की कार्रवाई भी इंसीडेंट कमाण्डर कराएँ। इंसीडेंट कमाण्डर पुलिस और नगर निगम के सहयोग से निरंतर कार्रवाई करते हुए लोगों को कोविड अनुरूप व्यवहार करने की समझाइश भी दें।

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में यह भी निर्देशित किया है कि पूर्व की भाँति कोविड केयर सेंटरों को भी तत्परता से प्रारंभ करने की कार्रवाई की जाए। पूर्व में फिजिकल कॉलेज, मेला ग्राउण्ड, श्याम वाटिका, हुरावली के साथ-साथ सभी ब्लॉक स्तर पर भी केन्द्र प्रारंभ किए गए थे। संबंधित इंसीडेंट कमाण्डर सभी केन्द्रों को प्रारंभ करने की तत्परता से कार्रवाई करें।

बैठक में स्वास्थ्य सेवाओं की भी समीक्षा की गई
कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने समीक्षा बैठक में शासकीय अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों और नर्सिंग कॉलेज में कोविड उपचार की व्यवस्थाओं के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को कहा है कि सभी शासकीय और नर्सिंग कॉलेजों में मरीजों को भर्ती करने और उनके उपचार की सभी व्यवस्थायें चाक-चौबंद होना चाहिए। मरीजों को भर्ती करने में किसी प्रकार की परेशानी नहीं आना चाहिए। दवाएँ एवं ऑक्सीजन की व्यवस्थायें भी अच्छी होना चाहिए।

कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया कि पूर्व की भाँति एम्बूलेंस की व्यवस्थायें की जाएँ। कंट्रोल कमाण्ड सेंटर पर भी पर्याप्त संख्या में एम्बूलेंस उपलब्ध होना चाहिए। कंट्रोल कमाण्ड सेंटर के माध्यम से वीडियो कॉलिंग के जरिए चिकित्सीय सलाह देने का कार्य निरंतर हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। कंट्रोल रूम पर पर्याप्त संख्या में दवाओं की किट भी उपलब्ध रहना चाहिए। होम क्वारंटाइन व्यक्तियों के घर पर भी दवा की किट समय पर पहुँचे यह सुनिश्चित किया जाए।

कलेक्टर ने बैठक में सभी इंसीडेंट कमाण्डरों और प्रभारी अधिकारियों से कहा है कि कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिये जो जवाबदेही सौंपी गई है उसका निष्ठापूर्वक निर्वहन सभी लोग करें।उन्होंने कोविड संक्रमण की रोकथाम के साथ-साथ चलाए जा रहे टीकाकरण महाअभियान के दौरान भी अधिक से अधिक लोगों को टीके लगें, इसके सार्थक प्रयास जरूरी हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

न्यायालयों में होगी वर्चुअल सुनवाई

Fri Jan 7 , 2022
स्टेट बार कौंसिल के पत्र पर चीफ जस्टिस ने लिया निर्णय जबलपुर:  वर्तमान समय में कोरोना की तीसरी लहर से संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जिससे अधिवक्ता तथा न्यायाधीश व न्यायिक कर्मी संक्रमित हुए हैं और हो रहे हैं जिसको देखते हुए, म.प्र. राज्य अधिवक्ता परिषद के अध्यक्ष शैलेंद्र […]