मप्र सरकार पिछड़ा वर्ग,अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों के प्रति गंभीर नहीं: कमलेश्वर पटेल

3 वर्षों से छात्रवृत्ति नहीं दी जा रही , 1210 करोड़ रु की आवश्यकता है

सीधी :  सीधी जिले के विधानसभा क्षेत्र सिहावल के विधायक एवं पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने मप्र विधानसभा में प्रदेश के पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक वर्ग के बच्चों को छात्रवृत्ति नहीं देने पर प्रश्न कर सरकार से जानना चाहा कि प्रदेश के पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र पिछले 3 वर्षों से छात्रवृत्ति नहीं मिलने से भटक रहे हैं। जिससे छात्रों के केरियर,आगे की पढ़ाई एवं भविष्य अंधकारमय हो रहा है।
विधायक श्री पटेल ने कहा कि मप्र की भाजपा सरकार निरंतर असंवैधानिक, अनैतिक कार्य कर प्रदेश की करोड़ों जनता के साथ अन्याय करने का कार्य कर रही है। स्कूली एवं उच्च शिक्षा में अध्ययनरत छात्र कल का भविष्य हैं और इन युवा छात्रों के भविष्य को अंधकार में बनाने का कार्य भाजपा की सरकार के द्वारा किया जा रहा है।

पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के मंत्री ने प्रश्न के उत्तर में बताया कि वर्ष 2019-20 में 26 हजार 402, वर्ष 2020-21 में 3 लाख 87 हजार 124 छात्रों की छात्रवृत्ति प्रदान की जाना शेष है तथा वर्ष 2021-22 का छात्रवृत्ति पोर्टल खोलने की कार्यवाही प्रचलन में है।
श्री पटेल ने कहा के छात्रों युवाओं एवं आमजन के प्रति प्रदेश की यह असंवेदनशील सरकार है।वर्तमान शैक्षणिक सत्र का आधा हिस्सा जाने के बाद भी अभी पोर्टल ही नहीं खुला है। कब पोर्टल खुलेगा, कब छात्र आवेदन करेंगे और उनके खाते में कब छात्रवृत्ति आएगी ?
पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने बताया कि 1210 करोड़ रु के बजट की आवश्यकता है जिसे मिलने पर छात्रों की छात्रवृत्ति के रूप में वितरित किए जाएंगे।

विधायक श्री पटेल ने कहा की स्वतंत्रता के बाद मध्य प्रदेश में पहली बार भाजपा सरकार ने पंचायत चुनावों में जो असंवैधानिक कार्य किया है, वह सब के सामने है। इससे समूचा पिछड़ा वर्ग आहत है।प्रदेश के मुख्यमंत्री व अन्य मंत्री गण सिर्फ भाषण देते हैं उनके कार्य जमीन पर नहीं दिखाई देते है।छात्र,छात्रवृत्ति के माध्यम से अपना भविष्य संवारना चाहते हैं किंतु समय पर छात्रवृत्ति न मिलने से उनके संजोए सपनों को नष्ट करने का कार्य सरकार के द्वारा किया जा रहा है।

आज मध्य प्रदेश में स्थिति बड़ी भयावह है, घरों में बिजली नहीं और भारी-भरकम बिल दिए जा रहे हैं आज छात्र को छात्रवृत्ति नहीं, नौजवान को रोजगार नहीं ,किसान कोष की फसल का सही मूल्य नहीं, आमजन महंगाई से बुरी तरह परेशान हैं । भाजपा ने समाज के हर वर्ग को सब्जबाग दिखाकर उन्हें ठगने का काम किया है। श्री पटेल ने मुख्यमंत्री से कहा है कि संवेदनशील होकर पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों की छात्रवृत्ति को शीघ्र वितरित करा कर युवा पीढ़ी को आगे बढ़ने का अवसर प्रदान करें, जो कि यह उनका संवैधानिक अधिकार है। इसमें कोई विलंब नहीं किया जाना चाहिए।

नव भारत न्यूज

Next Post

आम जन का अस्पतालों से विश्वास न टूटे: मंत्री कावरे

Sun Dec 26 , 2021
2.10 करोड़ की लागत से निर्मित नवीन आयुर्वेदिक ओपीडी भवन का हुआ लोकार्पण जबलपुर:  संस्था के प्रधानाचार्य और चिकित्सक कि अब यह जवाबदारी है कि वे अपने आचरण व व्यवहार एवं अनुशासन से मरीजों का सेवा भाव के साथ बेहतर से बेहतर उपचार करें। मध्यप्रदेश शासन भी एलोपैथी आयुर्वेदिक व […]