डेंगू का डंक: सीएसपी-टीआई समेत आधा दर्जन नए मरीज मिले

जिले में अब तक 110 मरीज मिल चुके
जबलपुर: जिले में डेंगू तेजी से पैर पसार रहा है। हर क्षेत्र से डेंगू पॉजिटिव मरीज मिल रहे है। शहर के 39 वार्ड मच्छरजन्य बीमारियों के लिए संवेदनशील है वहीं जिले के 49 गांव संवेदनशील है चौबीस घंटे में सीएसपी एवं टीआई समेत आधा दर्जन नए मरीज मिले है। अब तक 110 प्रकरण डेंगू के सामने आ चुके हैं। डेंगू के बढ़ते मरीजों को देखते हुए इसकी रोकथाम के लिए प्रभावित क्षेत्रों में डेंगू लार्वा सर्वे अभियान चलाया जा रहा है इसके साथ ही संदिग्धों की सैंपलिंग भी कराई जा रही है।

बढ़ गया खतरा
मौसम के उतार-चढ़ाव के चलते तेजी से मच्छरों का प्रकोप फैल रहा है। बरसात थमने के बाद डेंगू का खतरा बढ़ गया है जगह-जगह जमा बरसात के पानी में पल रहे मच्छर इसकी मुख्य वजह हैं। साफ पानी में पैदा होने वाले एडीज मच्छरों का हमला डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ा रहा है।

लोग बरत रहे लापरवाही शहर के विभिन्न क्षेत्रों में विभाग द्वारा सर्वे कराया जा रहा है। सर्वे के दौरान तमाम घरों में डेंगू मच्छरों के लार्वा मिले जिनका विनिष्टीकरण कराया गया। घरों में रखे कूलर, गमले, फ्रिज के कंटेनर आदि में लार्वा मिल रहे हैं। जिसके चलते डेंगू तेजी से पैर पसार रहा है। नागरिकों को मच्छरों की रोकथाम व लार्वा विनिष्टीकरण के लिए जागरुक किया जा रहा है।

ये है लक्षण
तेज बुखार, गंभीर सिर दर्द, जोड़ों व मांसपेशियों में दर्द, जी मचलना व उल्टी होना, नाक तथा मसूढ़ों से रक्तस्त्राव होना। डेंगू के ये लक्षण संक्रमण के दो से छह दिन बाद सामने आते हैं। यह बीमारी एडीज मच्छरों के काटने से होती है।
यह रखें सावधानी मच्छरों को घरों में पनपने से रोकना चाहिए। घर के आसपास पानी जमा न होने दें। कूलर, गमले, टंकियां, फ्रिज की सफाई पर ध्यान दें। घरों के आसपास बने गड्ढों में बरसात का पानी जमा न होने दें। मच्छरों से बचाव के लिए पूरी बांह के कपड़े पहनें।

ओपीडी में मरीजों की कतार
मौसमी बीमारियों के मरीज तेजी से बढ़ रहे है। अस्पतालों में पेट दर्द, उल्टी-दस्त की शिकायत लेकर मरीज आ रहे हैं। डायरिया के साथ टायफाइड और पीलिया के केस भी मिल रहे हैं। मौसमी बीमारियों के फैलने से अस्पतालों की मेडिसिन ओपीडी में मरीजों की कतार लग रही हैं।

इनका कहना है
प्रभावित क्षेत्रों में लगातार सर्वे का काम चल रहा है। लोगों से अपील है कि वे साफ-सफाई रखें, पानी एकत्रित ना होने दें। सावधानियां बरतें। यदि किसी को लक्षण है तो वह अपनी जांच जरूर कराएं।
डॉ. आर के पहारिया, जिला मलेरिया अधिकारी

नव भारत न्यूज

Next Post

महिलाओं से बात करने के कारण उतारा मौत के घाट

Sat Aug 14 , 2021
मंदसौर: युवक एक परिवार की महिलाओं को कॉल करता रहता था, इस बात से नाराज होकर आरोपी ने उसे मौत के घाट उतार डाला। मोबाइल कॉल हिस्ट्री से पुलिस को सुराग मिले, इसके बाद सर्चिंग में जंगल से आरोपी पकड़ा गया। वायडी नगर पुलिस ने दस घंटे में अंधे कत्ल […]