गोलियां ढूढ़ने दो बार करना पड़ा कुख्यात बदमाश का पोस्टमार्टम

मंडला : के चिकित्सक नहीं ढूंढ पा रहे थे गोलियां, देर शाम परिजनों को मिला शव दशमेश ढाबा में बदमाशों ने गोलियों से भून कर कर दी थी हत्या जबलपुर। मंडला जिले के उदयपुरा स्थित दशमेश ढाबा में गुरूवार रात्रि जबलपुर के कुख्यात हिस्ट्रीशीटर बदमाश बबलू पंडा की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर शव को पीएम के लिए बीजाडांडी अस्पताल भेज दिया था जहां चार चिकित्सकों एवं एफएसएल टीम ने पोस्टमार्टम शुरू किया लेकिन घंटों मशक्कत के बाद भी डॉक्टर गोलियों को दूँढ नहीं पाए इसके बाद दोपहर बाद शव को जबलपुर मेडिकल भेजा गया जहां मंडला डॉक्टरों के साथ मेडिकल कॉलेज की टीम ने पीएम कर गोलियों को निकाला। पोस्टमार्टम के बाद देर शाम शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया था।

ढाई घंटे में निकाली 4 गोलियां
जबलपुर मेडिकल कॉलेज में फारेंसिक एचओडी डॉक्टर विवेक श्रीवास्तव की अगुवाई में बबलू पंडा का पीएम किया गया। टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद लगभग  ढाई घंटे चले पोस्टमार्टम के दौरान शरीर में फंसी चार गोली ढूंढ निकाली। मंडला और जबलपुर में हुए पोस्टमार्ट में करीब पांच घंटे से अधिक का समय बीत गया।  मेडिकल पहुंचे कई नामचीन बदमाश, गुर्गें बताया जाता है कि जैसे ही पंडा के गुर्गों को जानकारी लगी कि पोस्टमार्टम जबलपुर मेडिकल में किया जा रहा है तो बड़ी संख्या में उसके गुर्गें पहुुंच गए थे। मेडिकल मेंं कई नामचीन बदमाश भी पहुंचे थे। सुरक्षा के मद्देनजर गढ़ा पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी.

शाम को सौंपा शव
गढ़ा थाना प्रभारी राकेश तिवारी के मुताबिक सुरक्षा के मद्देनजर मेडिकल कॉलेज में बल तैनात किया गया था। पीएम के बाद शुक्रवार शाम 5:30 बजे मंडला पुलिस ने शव पंडा के परिजनों के सुपुर्द कर दिया। परिजन शव का
अंतिम संस्कार करने ले गए।

क्या था मामला
गुरूवार रात्रि करीब 11 बजे उदयपुरा स्थित दशमेश ढाबा में बदमाशों ने बबलू पंडा पर गोलियां चला दी। इस दौरान पंडा ने खुद को बचाने के लिए एक बदमाश पर कुल्हाडी से हमला कर उसे घायल कर दिया था। गोलियां लगने से बबलू पंडा की मौके पर ही मौत हो गई थी।

50,000 दिए थे उधार
बीजाडांडी थाना प्रभारी राजेंद्र बर्मन ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि बबलू पंडा ने आकाश सोनकर को विगत दिवस 50,000 रूपए उधार दिए थे। उधारी की रकम वापिस नहीं करने के चलते बबलू पंडा ने कुछ
दिनों पूर्व आकाश सोनकर के साथ मारपीट भी की थी।

ये हुए गिरफ्तार
बीजाडांडी टीआई राजेंद्र बर्मन के मुताबिक बदमाश बबलू पंडा की हत्या करने वाले आरोपी आकाश सोनकर पिता भानू सोनकर निवासी भानतलैया एवं अमित श्रीवास्तव पिता मुन्ना उर्फ नरेश श्रीवास्तव निवासी रानीताल को गिरफ्तार कर लिया है। चार आरोपी अब भी फरार है जिनकी तलाश जारी है।

आधा दर्जन रांउड फायरिंग
पुलिस सूत्रों की माने तो आधा दर्जन राउंड फायरिंग में बब्लू पंडा को चार गोलियां लगी थी। इसके बाद बदमाशों ने उस पर धारदार हथियार से गले पर कई वार भी किए थे। बबलू पंडा के पेट में दो, सीने व हाथ में एक-एक गोली लगी थी।
डेढ़ साल से जंगल में आबाद था जुआ फड़, 8 लाख थी रोज की कमाई- सूत्र बताते है कि बबलू पंडा जबलपुर-मंडला के बॉर्डर पर बीजाडांडी क्षेत्र के उदयपुरा जंगल में पिछले डेढ़ साल से जुआ खिला रहा था। रोज की कमाई आठ लाख रूपए थी।

जुआ फड़ ऐसे स्थान पर था कि एक बार भी वहां तक पुलिस नहीं पहुंच पाई। उसके फड़ में जुआ खेलने नरसिंहपुर, मंडला सिवनी जबलपुर, उमरिया से जुआरी पहुंचते थे। नरसिंहपुर का शातिर जुआरी भाईलाल पटेल भी खिलाडिय़ों को लेकर अक्सर उसकी फड़ पर जाता रहता था। जुआ फड़ में जुआरियों को 20 प्रतिशत ब्याज पर पैसे भी दिए जाते थे। जुआ फड़ को संचालित करने बबलू पंडा ने कई बाद पार्टनर भी बदले जिसके चलते अनेक पार्टनर उसके दुश्मन भी बन गए थे। बबलू पंडा ने जबलपुर में जुआ, सट्टा, शराब के कारोबार में पुलिस की सख्ती को देखते हुए जुआ फड़ बीजाडांडी में स्थानांतरित कर दिया था।

सीडीआर कई चेहरे करेगी बेनकाब
सूत्रों के मुताबिक  जबलपुर में क्राइम ब्रांच के कुछ जवानों से उसकी नजदीकी सामने आ रही है। बबलू पंडा, उसके पार्टनर और जुड़े हुए लोगों के मोबाइल की सीडीआर निकलवाई जाए तो ये चेहरे बेनकाब हो सकते हैं।

जबलपुर में 29 अपराध दर्ज
गढ़वाला आटा चक्की के पास बिलहरी निवासी बबलू पंडा के खिलाफ जबलपुर में 29 अपराध तो सागर में भी आधा दर्जन प्रकरण दर्ज है, जबलपुर के बिलहरी निवासी बबलू पंडा गोराबाजार थाने का हिस्ट्रीशीटर बदमाश था। जबलपुर में कुल 29 अपराध दर्ज हैं। इसमें हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण कर हत्या, फिरौती, अवैध वसूली, जुआ, लूट सहित अन्य मामले शामिल हैं।

11 जून को थाने में आखिरी हाजिरी-
बबलू के खिलाफ  गोराबाजार पुलिस ने 10 दिसंबर 2020 को जिला बदर का प्रकरण जिला दंडाधिकारी के समक्ष पेश किया था। उसे थाने में हर 15 दिन में हाजिरी देने का आदेश जारी हुआ था। 11 जून 2021 को उसने गोराबाजार में आखिरी हाजिरी दी थी। जबलपुर में 2018 के बाद उसके खिलाफ  कोई प्रकरण दर्ज नहीं हुआ था।

2015 में दासता पत्नी-साथी संजय की कर दी थी हत्या
उल्लेखनीय है कि बबलू पंडा ने 16 मार्च 2015 में दासता पत्नी मंजू सोधे की तिलहरी क्षेत्र में दिन-दहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड के बाद वह फरार हो गया था। फरारी के दौरान ही आरोपी ने 4 मई 2015 को अपने साथी संजय रजक का बरेला क्षेत्र से अपहरण किया और गोली मारकर हत्या कर दी थी।

इनका कहना है
दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उधार दिए 50,000 रूपए के लेनदेन को लेकर हत्या की गई है। फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए जबलपुर सहित अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है।
यशपाल सिंह राजपूत, एसपी मंडला

नव भारत न्यूज

Next Post

आजादी के अमृत महोत्सव में युवा मोर्चा करेगा दो बड़े कार्यक्रम

Sat Aug 14 , 2021
नयी दिल्ली, (वार्ता) आजादी के अमृत महोत्सव की शुरुआत के मौके पर भारतीय जनता युवा माेर्चा (भाजयुमो) 15 अगस्त काे देश के हर जिले और 13350 संगठनात्मक मंडलों में सामूहिक राष्ट्रगान समर्पण कार्यक्रम शुरू करेगा तथा 15, 16 एवं 17 अगस्त को देश के 75 स्थानों पर 75 किलोमीटर की […]