दो विक्रेताओं के कब्जे से 527 क्विंटल खाद्यान्न जप्त

दोनों विक्रेता पहुंचे जेल, अमानत में खयानत करने का आरोप,चिनगो व नवानगर के हैं विक्रेता,बरगवां पुलिस की कार्रवाई

सिंगरौली :  खाद्यान्न की कालाबाजारी करने वाले चिनगो एवं नवानगर के विक्रेताओं के कब्जे से करीब 527 क्विंटल गेंहू, चावल जप्त करते हुए बरगवां पुलिस ने बड़ी कार्रवाई कर आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करते हुए जेल भेज दिया। बरगवां पुलिस की इस कार्रवाई से खाद्यान्न के अवैध कालाबाजारी करने वाले कथित विक्रेताओं में हड़कम्प मच गया है।जानकारी के अनुसार गरीबों के हक के अनाज पर डाका डालने वाले थाना क्षेत्र के 2 कोटेदारों को बरगवां पुलिस ने गिरफ्तार किया है। संभावना यह भी जताई जा रही है कि इनके द्वारा लंबे समय से उचित मूल्य की दुकानों से गरीबों के गेंहू व चावल की कालाबाजारी की जा रही थी।

आम जनता की शिकायत पर एसडीएम चितरंगी द्वारा मामले को संज्ञान में लेते हुए कनिष्ठ अधिकारी चितरंगी राजेश कुमार सिंह ने थाने में इसकी लिखित तहरीर दी। जिसके बाद बरगवां निरीक्षक आरपी सिंह ने एसडीओपी राजीव पाठक के मार्गदर्शन में इन खनिज माफियाओं पर नकेल कसने के लिए दोनों कोटेदारों के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया। विवेचना के दौरान जांच कर रही पुलिस टीम को पता चला कि शासकीय उचित मुल्य दुकान नवानगर बरगवां का कोटेदार रूप शाह सिंह द्वारा अमानत में खयानत करते हुए 207 क्विंटल खाद्यान्न की कालाबाजारी की गई है।

वहीं चिनगो के उचित मूल्य दुकान के विक्रेता मुलायम सिंह वैश्य द्वारा कुल 320 क्विंटल खाद्यान्न की कालाबाजारी की गई है। बरगवां पुलिस ने जहां आरोपी रूप शाह सिंह पिता जगन्नाथ सिंह उम्र 53 वर्ष निवासी खोखवा थाना चितरंगी को धारा 406, 3/7 आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया है।

वहीं कुछ दिन पूर्व आरोपी मुलायम सिंह वैश्य पिता रोहणी प्रसाद वैश्य उम्र 38 वर्ष निवासी चिनगो को धारा 406, 3/7 आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया था। इन मामलों में दोनों आरोपियों के विरुद्ध विवेचना के दौरान धारा 409 बढ़ाई गई थी। गौरतलब है कि आए दिन गरीबों के खाद्यान्न पर कोटेदारों द्वारा कालाबाजारी करते हुए मोटी रकम उगाही जाती है। परंतु अब कालाबाजारियों पर पुलिस द्वारा कस रही नकेल से शायद इन मामलों में कमी दिखेगी। फिलहाल पुलिस गायब हुए कुल 507 क्विंटल अनाज की जांच जारी है कि इन अनाजों को कहां बेचा गया है।

खाद्यान्न की कालाबाजारी अभी भी जोरों पर
जिले में कई ऐसी शासकीय उचित मूल्य दुकानें हैं जहां दुकानों से गरीबों को मिलने वाला गेंहू व चावल की कालाबाजारी दुकान के संचालक अपने सगे संबंधियों के साथ मिलकर कर रहे हैं। लेकिन यह बात जिले के खाद्य अधिकारी तक नहीं पहुंच रही है। शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में यह खेल ज्यादातर दूरस्थ ग्रामीण अंचलों में धड़ल्ले से चल रहा है। जहां दुकानदार गरीबों के अनाजों को औने पौने दामों में बेंचकर मोटी रकम वसूल रहे हैं। लेकिन जिले के अधिकारियों की नजर ऐसे दुकानदारों पर नहीं पड़ रही है।

विके्रताओं पर निरीक्षक दिखाते हैं दरियादिली
जिले में खाद्यान्न की कालाबाजारी करीब दो साल से व्यापक पैमाने पर की जा रही है। सूत्रों की बात मानें तो खाद्य अधिकारी जहां कालाबाजारी के मामले में अंज्ञान बन जाते हैं वहीं खाद्य निरीक्षकों की भूमिका संदेह के घेरे में है। चर्चाओं के मुताबिक आये दिन सीएम हेल्पलाइन एवं कलेक्टर की जनसुनवाई में हितग्राही खाद्यान्न न मिलने की शिकायत लेकर पहुंचते हैं। जहां खाद्य अधिकारी को कलेक्टर निर्देशित कर विक्रेताओं के विरूद्ध कार्रवाई कर जांच प्रतिवेदन देने व हितग्राहियों को खाद्यान्न मुहैया कराने के निर्देश देते आ रहे हैं। किन्तु ऐसे कथित विक्रेताओं के विरूद्ध कार्रवाई करने से खाद्य अमला भागता नजर आता है। सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि कई विक्रेताओं से खाद्य निरीक्षकों को बेहतर तालमेल है। जिसके चलते कथित विक्रेताओं पर निरीक्षक दरियादिली व वकालत करते आ रहे हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

बगदाद के ग्रीन जोन में रॉकेटों से हमला

Sun Dec 19 , 2021
बगदाद 19 दिसंबर (वार्ता/स्पूतनिक) इराक की राजधानी बगदाद के ग्रीन जोन में दो रॉकेटों से हमला किया  गया। मीडिया ने रविवार तड़के यह रिपोर्ट दी है। यरूशलम पोस्ट ने इराक के सुरक्षा मीडिया सेल के हवाले से बताया कि अमेरिका द्वारा स्थापित सी-रैम रक्षा प्रणाली को शनिवार देर रात रॉकेटों […]