प्लेब्वॉय की नौकरी का झांसा देकर एक हजार युवाओं को ठगा

क्राइम ब्रांच के हाथ लगे गिरोह के तीन सदस्य, दिल्ली तक फैला है रैकेट

ग्वालियर:  क्राइम ब्रांच को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने पढ़े लिखे बेरोजगार युवको की हालात का फायदा उठाकर उनको जिगोलो बनाकर ठगने वाले इंटरस्टेट रैकेट का खुलासा किया है। गिरोह इन को रंगीन दुनिया के हसीन सपने दिखाकर लाखों रुपए कमाने का लालच देकर ठगी करते थे। टारगेट को विश्वास में लेने के लिए यह महिलाओं से बात कराते थे। जब टारगेट उनके जाल में फंस जाते थे तो उनसे रुपए ऐंठते थे। इनको शहर की पॉश कॉलोनी के एक फ्लैट से गिरफ्तार किया गया है। गिरोह के अभी तीन सदस्य हाथ आए हैं और यह एक वेबसाइट के जरिए युवाओं को फंसाते थे। पुलिस ने कस्टमर बनकर ही इनके रैकेट का खुलासा किया है। गिरोह ने अभी तक 1 हजार लोगों को ठगने की बात कुबूली है। इनके पास से काफी मात्रा में सिम कार्ड, पेन कार्ड, आधार कार्ड, सील-सिक्के व अन्य सामग्री मिली है। यह बेहद शातिर है और दिल्ली तक रैकेट फैला हुआ है। पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है।

एसपी अमित सांघी ने बताया कि खबर मिली थी कि सैनिक कॉलोनी बंशीराम मार्केट में फ्लैट नंबर 1-ए में फ्रॉड काम चल रहा है। उन्होंने तत्काल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश डंडौतिया को इस फर्जीवाडे का खुलासा करने की जिम्मेदारी सौपी। डीएसपी विजय भदौरिया ने क्राइम ब्रांच के धर्मेन्द्र शर्मा और उनकी टीम को मौके पर भेजा। सब कुछ कंफर्म कर टीम ने छापा मारा तो फ्लैट में काफी संख्या में फर्जी दस्तावेज मिले। मौके से गैंग के तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया। पुछताछ हुई तो खुलासा हुआ कि इन्होंने एक वेबसाइट खोल रखी है। उस वेबसाइट को देखकर जब बेरोजगार युवा जॉब के लिए एप्लाई करते हैं तो यह जिगोलो बनने का ऑफर देते थे।

यह भी लालच दिया जाता था कि इस काम में मजे के साथ पैसा भी काफी मिलेगा। बेरोजगार उनके झांसे मे आकर राजी हो जाते थे। इसके बाद उनसे डॉक्यूमेंट, कमीशन, सेफ्टी किट के नाम पर रुपए हड़पे जाते थे। जब ठगी हो जाती थी तो नंबर को ब्लॉक कर दिया जाता था। ठगी के शिकार युवा शर्म के चलते पुलिस तक भी नहीं पहुंच पाते थे।क्राइम ब्रांच ने गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के मास्टर माइंड की पहचान पंकज राजपूत निवासी मुरैना, सौरभ निवासी अंबाह मुरैना, अभिनव कुमार उर्फ गुलशन निवासी फैजाबाद यूपी के रूप में हुई है। आरोपियों के पास से 30 सिम कार्ड, 56 एटीएम कार्ड, 50 आधार कार्ड, 20 पेनकार्ड बरामद हुए हैं। गैंग ने प्लेबॉय की नौकरी का झांसा देकर देशभर के 1 हजार से ज्यादा बेरोजगारों को अब तक ठगा है। इनके ग्वालियर के 2 बैंक खातों में 18 लाख रुपए की नकदी जमा होने का खुलासा हुआ है।

नव भारत न्यूज

Next Post

ननि का भण्डाफोड़,नोटशीट बदलने की कवायद तेज!

Thu Dec 16 , 2021
मामला नगर निगम सिंगरौली के वार्ड क्र.42 अटल सामुदायिक भवन बिलौंजी के साउंड पू्रफिंग सहित अन्य निर्माण कार्यों का मामला पकड़ा तूल सिंगरौली : नगर पालिक निगम सिंगरौली भ्रष्ट्राचार के सारे पराकाष्ठाओं को पार कर दे रहा है। अपने चहेतों को लाभ दिलाने के लिए अधिकारी दरिया दिली दिखाने में […]