बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे देवानंद

..पुण्यतिथि 03 दिसंबर अवसर पर ..
मुंबई, 03 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड इंडस्ट्री में देवानंद का नाम ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है, जिन्होंने
न सिर्फ अपने सदाबहार अभिनय से बल्कि फिल्म निर्माण और सशक्त निर्देशन के जरिये भी दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी।

26 सिंतबर 1923 को पंजाब के गुरदासपुर में एक मध्यम वर्गीय परिवार में जन्मे धर्मदेव पिशोरीमल आनंद उर्फ देवानंद ने अंग्रेजी साहित्य में अपनी स्नातक की शिक्षा 1942 में लाहौर के मशहूर गवर्नमेंट कॉलेज में पूरी की।
देवानंद इसके आगे भी पढ़ना चाहते थे, लेकिन उनके पिता ने साफ शब्दों में कह दिया कि उनके पास उन्हें पढ़ाने के लिये पैसे नहीं है और यदि वह आगे पढ़ना चाहते है तो नौकरी कर लें।

देवानंद ने निश्चय किया कि यदि नौकरी ही करनी है तो क्यों ना फिल्म इंडस्ट्री में किस्मत आजमाई जाये।
वर्ष 1943 में अपने सपनो को साकार करने के लिये जब वह मुम्बई पहुंचे तब उनके पास मात्र 30 रूपये थे और रहने के लिये कोई ठिकाना नहीं था।
देवानंद ने यहां पहुंचकर रेलवे स्टेशन के समीप ही एक सस्ते से होटल में कमरा किराये पर लिया।
उस कमरे में उनके साथ तीन अन्य लोग भी रहते थे, जो देवानंद की तरह ही फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष कर रहे थे।

जब काफी दिन यूं ही गुजर गये तो देवानंद ने सोचा कि यदि उन्हें मुंबई में रहना है तो जीवन.यापन के लिये नौकरी करनी पड़ेगी चाहे वह कैसी भी नौकरी क्यों न हो।
अथक प्रयास के बाद उन्हें मिलिट्री सेन्सर ऑफिस में लिपिक की नौकरी मिल गयी।
यहां उन्हें सैनिको की चिट्ठियों को उनके परिवार के लोगो को पढ़कर सुनाना होता था।

नव भारत न्यूज

Next Post

मोदी,मनमोहन की सरकारों के काम करने के तौर-तरीके में जमीन-आसमान का फर्क: सिंधिया

Fri Dec 3 , 2021
नयी दिल्ली, 03 दिसंबर (वार्ता) नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया रिपीट ज्योतिरादित्य सिंधिया ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार और डॉ मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकारों के बीच तुलना को मुश्किल काम बताते हुए शुक्रवार को कहा कि दोनों के काम करने के तौर तरीके में जमीन-आसमान […]