भारतीय बल्लेबाजी लड़खड़ाई,लंच तक पांच विकेट पर 84 रन

कानपुर 28 नवंबर (वार्ता) न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन रविवार को असामान्य उछाल वाली ग्रीनपार्क की पिच भारतीय बल्लेबाजों का कड़ा इम्तिहान ले रही है। पहली पारी में 49 रन की बढ़त लेने वाली मेजबान टीम ने अपनी दूसरी पारी में भोजनावकाश तक अपने पांच महत्वपूर्ण विकेट महज 84 रन पर खो दिये हैं।
लंच के समय पहली पारी के शतकवीर श्रेयस अय्यर (18) और रविचंद्रन अश्विन 20 रन बनाकर क्रीज पर डटे हुये थे। इससे पहले भारत ने अपने कल के स्कोर एक विकेट पर 14 रन से आगे खेलना शुरू किया। न्यूजीलैंड को आज पहली सफलता चेतेश्वर पुजारा (22) के विकेट के तौर पर मिली जो काइल जेमिसन की गेंद पर विकेट के पीछे लपके गये। पारी के 15वें ओवर में एजाज पटेल ने नये बल्लेबाज कप्तान आंजिक्य रहाणे को मात्र चार रन के निजी स्कोर पर पगबाधा आउट कर भारतीय उम्मीदों को करारा झटका दिया।
मैच से पहले आउट आफ फार्म चल रहे पुजारा और रहाणे से खेल प्रेमियों को काफी आशायें थी मगर अब इसके लिये उन्हे अगले मैच का इंतजार करना पड़ेगा। भारत की दूसरी पारी अभी संभली नहीं थी कि टिम साउदी ने मयंक अग्रवाल (17) को टाम लाथम के हाथो कैच आउट करा कर चौथा झटका दिया जबकि नये बल्लेबाज रविन्द्र जडेजा को पगबाधा आउट किया। पहली पारी में अर्धशतकीय पारी खेलने वाले जडेजा दूसरी पारी अपना खाता भी नहीं खोल सके थे और मात्र दो गेंद खेलने के बाद पवेलियन लौट गये।
टीम में असामान्य उछाल आज सुबह से ही बल्लेबाजों को परेशान कर रही है जिससे क्रीज पर वे असहज दिखे मगर उनके आउट होने की वजह बल्लेबाजों की निजी गलतियां रहीं। भारत के पास लंच तक फिलहाल 133 रन की बढत हो चुकी है। श्रेयस और अश्विन के तौर पर भारत के पास आखिरी मान्य बल्लेबाजों की जोड़ी है। भारतीय खेमा चाहेगा कि यह साझीदारी चायकाल तक खिंचे जिससे वह कीवी टीम के खिलाफ जीत की उम्मीद कर सकते हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

ओमिक्राॅन से निपटने के लिए स्वास्थ्य बुनियादी ढाँचा तैयार करें स्थानीय प्रशासन

Sun Nov 28 , 2021
(वार्ता) केंद्र सरकार ने कोविड के नये वेरिएंट ओमिक्राॅन से निपटने के कोविड मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने तथा स्थानीय स्तर पर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचा तैयार करने के निर्देश दिए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों […]