पाठ्य पुस्तक निगम डिपो का प्रबंधक तीस हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

क्रमोन्नति का लाभ देने व बिल भुगतान के लिये मांगी थी 2 लाख की रिश्वत, 1 लाख 70 हजार ले चुके थे पूर्व में

रीवा: पाठ्य पुस्तक निगम का रीवा डिपो प्रबंधक को 30 हजार की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस ने गिरफ्तार किया है. 15 लाख का बिल भुगतान एवं सातवें वेतनमान का लाभ और द्वितीय क्रमोन्नति देने के लिये दो लाख की रिश्वत मांगी गई थी. 1 लाख 70 हजार पूर्व में ले चुके थे, शुक्रवार की दोपहर 30 हजार रूपये अपने निवास में लेते हुए प्रबंधक पकड़ा गया.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता नरेन्द्र कुमार मिश्रा निवासी संजय नगर द्वारा लोकायुक्त कार्यालय में रिश्वत मांगे जाने की शिकायत की थी. शिकायत में बताया गया कि सहायक वित्त अधिकारी म.प्र पाठ्य पुस्तक निगम भोपाल राहुल खरे एवं जिला डिपो प्रबंधक आर.सी मिश्रा द्वारा संयुक्त रूप से रिश्वत की मांग की जा रही है. सातवें वेतनमान का लाभ और सितम्बर 2017 से द्वितीय क्रमोन्नति का लाभ दिये जाने एवं 15 लाख रूपये के बिल भुगतान करने के एवज में 2 लाख की रिश्वत मांगी गई है. शिकायत को लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने गंभीरता से लिया और आरोपी को रंगे हांथ पकडऩे के लिये योजना बनाई.

बताया गया कि सहायक वित्त अधिकारी के लिये रिश्वत के पैसे लिये गये थे. शुक्रवार को आरोपी ने अपने निवास नेहरू नगर में 30 हजार रूपये लेकर शिकायतकर्ता को बुलाया था. दोपहर जैसे ही शिकायतकर्ता 30 हजार रूपये लेकर पहुंचा तो पहले से ही ताक में खड़ी लोकायुक्त टीम ने आरोपी डिपो प्रबंधक को 30 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया. ट्रेप की कार्यवाही में डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार, निरीक्षक प्रमेंद्र कुमार, उपनिरीक्षक आकांक्षा पाण्डेय सहित 15 सदस्यीय टीम मौजूद रही. दोनो आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले को जांच में लिया गया है.

1 लाख 70 हजार ले चुके थे पूर्व में
शिकायतकर्ता ने बताया कि बिल भुगतान और क्रमोन्नति का लाभ देने के लिये 2 लाख की रिश्वत मांगी गई थी. लगातार पैसे के लिये परेशान किया जा रहा था. सहायक वित्त अधिकारी पाठ्य पुस्तक निगम भोपाल एवं जिला प्रबंधक आर.सी मिश्रा दोनो ने पैसे की मांग की थी. जिला प्रबंधक सहायक वित्त अधिकारी के लिये पैसे ले रहा था. 1 लाख 70 हजार पूर्व में ले चुके थे और शेष 30 हजार की राशि लेते हुए शुक्रवार को पकड़े गये. दोनो आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया.

दोनो के खिलाफ प्रकरण दर्ज: एसपी
लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि शिकायतकर्ता नरेन्द्र मिश्रा से 2 लाख रूपये की मांग की गई थी. बिल भुगतान, सातवें वेतनमान का लाभ और क्रमोन्नति का लाभ देने के लिये रिश्वत मांगी गई थी. 1 लाख 70 हजार ले चुके थे और 30 हजार रूपया लेते हुए डिपो जिला प्रबंधक आर.सी मिश्रा पकड़ा गया है. दोनो के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच की जा ही है.

नव भारत न्यूज

Next Post

2023 में सुयोग्यता के मापदंड

Sat Nov 27 , 2021
एक अच्छे नेता में नेतृत्व का गुण होता है. इसी गुण के आधार पर नेता जनता का मार्गदर्शन करता है और उनके हित से जुड़े कार्यों को आगे बढ़ाने की पहल करता है. नेता वही है जिसका लक्ष्य जनता के हित के कार्य करना और समाज के उत्थान के प्रयास […]