देह व्यापार कराने वाले गिरोह का मुखिया साथियों सहित गिरफ्तार

भारत-बांग्लादेश सीमा से लाते थे युवतियां, अन्य शहरों के एजेंटो का भी हुआ पर्दाफाश।

इंदौर:  भारत-बांग्लादेश सीमा से अवैध रुप से युवतियां लाकर देह व्यापार कराने वाले गिरोह का मुखिया साथियों सहित अन्य आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उक्त गैंग के स्थानीय सहयोगियों और देश के प्रमुख शहरों के एजेंटो का भी पर्दाफाश हुआ. पिछले 23 वर्षों से अपनी पहचान छुपा कर गिरोह का बांग्लादेशी मुख्य आरोपी रह रहा था. हवाला एवं हुण्डी के जरिये भारत से बांग्लादेश पैसा भेजता था. आरोपी की पत्नी बाग्लादेश में लडकियों के कल्याण के नाम पर एनजीओ की आड में मजबूर एवं बेसहारा युवतियो को काम के बहने अवैध रुप से भारत भेजने में सहयता करती है. गैंग की 4 महिला सदस्य जो बांग्लादेशी युवतियो को देह व्यापार के लिये विवश करती है, उन्हें भी गिरफ्तार किया गया.

जानकारी के अनुसार विजय नगर पुलिस ने पिछले दिनों बाग्लादेश बार्डर से अवैध रुप से पार करवाकर देह व्यापार में सलिप्त करने वाले 33 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. आरोपी से प्राप्त जानकारी के आधार पर मुख्य आरोपी विजय दत्य की तलाश की जा रही थी. पुलिस टीम को जानकारी मिली थी इसकी पत्नि जोसना खातुन ने बांग्लादेशी पासपोर्ट बना रखा है और वीजा लेकर मुम्बई आती रहती है. पुलिस टीम ने मुम्बई में 7 दिन रहकर इसकी रैकी की. पुलिस टीम ने बांग्लादेश की मराठी, स्थानीय लोगों एवं भाषा का उपयोग कर पतारसी की जा रही थी.

इसे टीम के मराठी भाषा में बात करने में लगा की मुम्बई पुलिस तलाश कर रही है तो मुख्य आरोपी अपनी सहयोगियो के साथ इंदौर आ गया. तकनीकी आधार पर पुलिस अधीक्षक पूर्व आशुतोष बागरी द्वारा आईपीएस एम यु रहमान के नेतृत्व में टीम गठित कर घेराबन्दी कराई गयी. इसमें विजय दत्य की संपूर्ण गैंग बाणगंगा क्षैत्र में छुपी होने की सूचना मिली. सूचना पर पुलिस टीम ने दबिश दी, विजय दत्य व उसकी टीम दीवार तथा छत कुदने का भागने का प्रयास किया गया किन्तु पुलिस ने पकड लिया. उक्त संगठित गैंग बांग्लादेश भारत बार्डर पर विघटित परिवार की गरीब युवतियो की रैकी कर मासूम युवतियों को अवैध रुप से सीमा पार कराकर भारत लाकर छल कपट व नशे की लत लगा और उनकी मजबूरी का फायदा उठाकर उनसे देह व्यापार करवाते थे .

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर रह रहा था
पूछताछ में आरोपी विजय दत्य ने अपना नाम विजय पिता विमल दत्य निवासी नदिया पं. बंगाल बताया परन्तु कड़ाई से पूछताछ पर पता चला कि उसका असली नाम मामुन पिता वफज्जुल हुसैन है, जो पाबना जिला रसई बांग्लादेश का रहने वाला है. फर्जी दस्तावेजो के आधार पर नाला सुपारा मुम्बई में रहता है.

साथ देने वाले आरोपी गिरफ्तार
मुख्य आरोपी के साथ उसकी महिला सहयोगी बांग्लादेश से लडकियों को लाने वाली तथा उन्हें देह व्यापार हेतु विवश करने वाली आकीजा पिता माणीक शेख व दीपा पिता तोसिफ मुल्ला शेख निवासी बांग्लादेश को गिरफ्तार किया गया. आरोपी विजय उर्फ मामुन के साथ रहने वाले गैंग के एजेन्ट उज्जवल पिता अवधेश प्रसाद निवासी कालिन्दी गोल्ड बाणगंगा तथा एनजीओ चलाने व देह व्यापार मे उसकी साथ देने वाली पत्नी नेहा उर्फ निशा, उसकी साथी रजनी वर्मा निवासी एमआईजी, दिलिप बाबा पिता द्वारकादास सावलानी निवासी स्कीम न. 78 लसुडिया को भी गिरफ्तार किया गया. विजय उर्फ मामुन दत्य का एजेन्ट जो बांग्लादेश की युवतियों को निमाड़, धार, पीथमपुर लाता था उसे भी इसके साथ गिरफ्तार किया गया. आरोपी बबलु उर्फ पलास सरकार निवासी नालासुपारा मुम्बई जो अपनी पत्नि के सहयोग से बाग्लादेश से युवतियाँ लाकर देह व्यापार करवाता है, को भी गिरफ्तार किया गया।

फर्जी दस्तावेजों से बनवाए कार्ड
प्रारम्भिक पूछताछ में इसने बताया है कि बांग्लादेशी तस्करी कर लाई गयी कुछ लडकियों को फर्जी दस्तावेजो के आधार पर आधार कार्ड, राशन कार्ड , वोटर आई डी कार्ड एवं पासपोर्ट भी इसके द्वारा बनवाया गया है. एक गिरोह सक्रिय है जिसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है. प्रकरण में विस्तृत पूछताछ जारी है.

नव भारत न्यूज

Next Post

प्रधानमंत्री मोदी डॉ. अंबेडकर से जुड़े 5 स्थानों को घोषित करेंगे राष्ट्रीय धरोहर

Thu Nov 25 , 2021
कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे कलेक्टर इंदौर: डॉ. भीमराव अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस के उपलक्ष्य पर इंदौर के महू में स्थित संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर की जन्म स्थली को 6 दिसम्बर 2021 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जा […]