खनिज मंत्री एवं सांसद शर्मा का अवैध रेत उत्खनन मे हिस्सेदारी- दिग्विजय सिंह

पन्ना : कल देर रात लगभग 9.30 बजे स्थानीय उच्च विश्रामग्रह में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह ने पत्रकार वार्ता में पन्ना जिले में रेत सहित अन्य अवैध खनिज उत्खनन के लिए सीधे क्षेत्रीय विधायक एवं प्रदेश के खनिज मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह तथा क्षेत्रीय सांसद एवं प्रदेश भाजपाध्यक्ष व्ही. डी. शर्मा पर हिस्सेदारी का आरोप लगाया है। ज्ञात हो कि कल 23 नवंबर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार रामनई, बरौली, जिगनी, चंदौरा, लौलास, बीरा एवं भानपुर क्षेत्र में रेत के अवैध उत्खनन क्षेत्रों का पैदल भ्रमण कर निरीक्षण किया और ग्रामों में जन जागरण यात्रा निकाली बाद में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम से लगभग साढ़े चार घंटे विलंब से पन्ना वापस आकर सर्किट हाउस में पत्रकारों को सम्बोधित किया उन्होंने कहा कि जिले में हुए अवैध उत्खनन को लेकर वे शांत नहीं रहेंगे अभी आगे भी अपनी लड़ाई जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा कि भाजपा को जब जनता ने प्रदेश में नकार दिया तो उन्होंने खरीद फरोख्त की नीति अपनाई विधायकों को खरीदकर एवं तोडकर सरकार बनाई लेकिन वे बिकाउ नहीं हैं और न वे डरने वाले हैं। जिले में हरिजन आदिवासियों पर अत्याचार करने वाले भाजपा नेताओं पर आज तक कोई कार्यवाही जिला प्रशासन ने नहीं की जिससे साफ जाहिर होता है कि जिला प्रशासन पूरी तरह से सत्ता के इशारे पर चल रहा है। उन्होंने क्षेत्रीय विधायक एवं खनिज मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद पर आरोप लगाते हुए कहा कि विधायक व सांसद अवैध रेत उत्खनन में शामिल हैं स्वयं के चुनाव क्षेत्र में अवैध उत्खनन हो रहा है क्या उनको मालूम नहीं इस पर मंत्री जी का हिस्सा है काली कमाई हुई है। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि सांसद व मंत्री अवैध रेत खनन में शामिल है सरकार को रॉयल्टी नहीं दे रहे हैा तो जुर्माना उन पर होना चाहिए। अब देखना है कि भाजपा के दोनों प्रमुख नेता मंत्री व सांसद इस आरोप को लेकर क्या पलटवार करेंगे यह तो आगे आने वाला समय ही तय करेगा।

भाजपा एवं कांग्रेस नेताओं के द्वारा तीन दशकों से अवैध पत्थर खदानों के मामले को टाल गयेः- जब पत्रकारों ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से पूंछा कि अवैध रेत उत्खनन का मामला बमुश्किल चार पांच साल से ही शुरू हुआ है जिसमें भाजपा एवं कांग्रेस के नेता लिप्त रहे हैं। लेकिन इससे कहीं कई गुना अधिक लगभग तीन दशकों से भाजपा एवं कांग्रेस के छोटे से लेकर बडे नेताओं द्वारा अवैध रूप से पत्थर खदानों एवं क्रेशरों का संचालन किया जा रहा है जिसमें नियमों की खुलेआम धज्जियां उडाई जा रही है तथा स्वीकृत क्षेत्र से हटकर एवं कई गुना अधिक क्षेत्र पर अवैध पत्थर की खदानें संचालित की जा रही है उक्त प्रश्न को पूर्व सीएम यह कहते हुए टाल गए कि इसके प्रमाण उपलब्ध करायें तो वे इस पर भी अपनी ओर से हर संभव प्रयास करेंगे। ज्ञात हो कि अधिकांश भाजपा एवं क्रांग्रेस नेता दशकों से अवेध रूप से पत्थर खदानें संचालित कर रहे हैं। इस धंधे में लिप्त भाजपाईयों एवं कांग्रेसियों ने एकता की मिशाल कायम की है।

नव भारत न्यूज

Next Post

अंतिम व्यय लेखा जमा करने समाधान बैठक 29 नवंबर को

Thu Nov 25 , 2021
सतना: भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विधानसभा क्षेत्र 62 रैगांव उप निर्वाचन 2021 का निर्वाचन लड़ने वाले सभी अभ्यर्थियों को निर्वाचन परिणाम की घोषणा के पश्चात 30 दिवस के भीतर निर्वाचन कार्यालय में अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत करना अनिवार्य है। अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजेश शाही ने […]