स्वच्छता रैकिंग में दूसरे से तीसरा स्थान और झोनल रैकिंग में 29 से 99वें स्थान पर पहुंचा

 

झाबुआ: आखिरकार स्वच्छता सर्वेक्षण में जहां 25 से 50 हजार की जनसंख्या में गत वर्ष झाबुआ रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पर आया था, वही कुछ उदासिनता एवं उचित एवं योजनाबद्ध कार्य के अभाव में इसकी रेकिंग नीचे खिसक गई और झाबुआ इस वर्ष तीसरे स्थान पर आ गया जो निश्चित ही विचारणीय होने के साथ ही नपा की कार्य प्रणाली पर भी सवालियां निशान खडे कर रहा है। अभा स्तर तो दूर की बात प्रदेश स्तरीय रेंकिंग में झाबुआ का अगली पायदान पर जाने की बजाय नीचे खिसकना विचारणीय है औेर तो औेर झाबुआ नपा की वर्ष भर की उपलब्धि को देखे तो नगर झोन रैंकिंग में भी 29 वें स्थान से खिसकर 99 नंबर पर चला गया।

जाहिर है कि श्रेष्ठ स्थान पाने के लिए झाबुआ को आने वाले साल में अधिक मेहनत करना पडेगी। क्योंकि कई कमियां नपा की कार्यप्रणाली और स्वच्छता को लेकर बनी हुई है। इसे दूर करने की जरूरत अभी से दिखाई देने लगी है। तर्क तो यह भी दिये जा रहे है कि कर्मचारियों एवं संसाधनों की कमी के चलते इस बार झाबुआ का नंबर नही लग पाया, जबकि जरूरी यह है कि स्वच्छ सर्वेक्षण रैंकिंग बढ़ाने के लिए जनता का सहयोग भी लेना जरूरी है किंतु इस दिशा में नपा अति उत्साह के चलते यह सब कुछ नही कर पाई।

नही चलाया कोई अभियान
ज्ञातव्य है कि पिछले वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रदेश में दूसरा स्थान झाबुआ का था। क्योकि इस कार्य में सभी ने मिलकर सामूहिक प्रयास किए थे। इस वर्ष 2021 में स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाए, इसलिए झाबुआ पिछड़ा, हालांकि प्रयास तो किए जाने की बात जिम्मेवार करते है, किंतु यह भी सही है कि प्रयास में सहयोगियों की कमी रही होगी। साथ ही इस बार नपा ने गत वर्ष के अनुभवों को भी ताक पर रख दिया तथा इस बार स्वच्छता को लेकर कोई विशेष अभियान भी नहीं चलाया गया और ना ही गंभीर प्रयास दिखाई दिए। जिसका परिणाम प्रदेश में तीसरी रेंक और झोन में 29 से घट कर 99 वें स्थान पर पहंुचाना विचारणीय है।

अभी भी हालात जस के तस
नपा के स्वच्छता अभियान की पोल इस बात से खुलती है कि नगर की सडकों की सतत सफाई व्यवस्था को देखने के लिये जिम्मेवार अति उत्साह में रहे और सफाई कर्मियों के भरोसे ही वार्डो की सडके, नालियों की सफाई व्यवस्था रही। फलतः नगर में साफ सफाई की दिशा में गत वर्ष के मुकाबले जो काम होना चाहिये था वह नही हो पाया।

अभी भी हालातों पर ध्यान दे तो हालात जस के तस ही बने हुए है। स्वच्छता को लेकर किये गये प्रयासों का ही आंकलन करें तो वर्ष 2018 में नपा का प्रदेश स्तर पर 24वां स्थान था, वही वर्ष 2019 में कुछ सुधार होने से नपा 15वें नंबर पर आ गई। स्वच्छता सर्वेक्षण के लिये पैदा की गई जन जागृति के चलते 2020 में नपा को दूसरा स्थान मिला, जिसके चलते नपा अध्यक्ष मन्नु डोडियार को पुरस्कृत भी किया गया था, किंतु 2021 में जहां अन्य नगरीय निकायों ने भरपूर मेहनत करके दूसरे नंबर का तमगा भी छिन लिया तथा नीचे खिसकर 3 नंबर पर आ गये। यदि जनता को इस सर्वेक्षण अभियान में जोडा जाता और उनका सहयोग लिया जाता तो आज स्थिति परवान चढती दिखती।

पिछडने का ढिकरा दुसरों पर
सर्वेक्षण में पिछडने का ढिकरा कोरोना काल पर भी फोडा जा रहा है, जबकी कोरोना पूरे देश में था, ऐसे में अन्य निकाय जो झाबुआ से पीछे थी वे आगे कैसे निकल गई ? दुसरा तर्क जन प्रतिनिधियांें के भी सहयोग नही मिलने का सामने आया है, जबकि पूरी परिषद कांग्रेस की है, विधायक, जिपं अध्यक्ष, जनपद अध्यक्ष, नपा के पार्षदगण, सभी कांग्रेस पार्टी के होने के बाद भी इस कार्य में उनका सहयोग नही मिलना हास्यास्पद लगता है। तीसरा तर्क कर्मचारियों की कमी का बताते हुए संसाधनों की कमी होने का ढिंढोरा भी पीट रहे है, जबकि 2020 के सर्वेक्षण के समय जो स्टॉफ एवं कर्मचारी थे, करीब-करीब वे ही लोग इस वर्ष भी कार्य कर रहे हेै, गत वर्ष की तुलना में कर्मचारियों की कोई कमी दिखाई नही देती है तथा राज्य सरकार ने भी नपा को फंड देने में कोई कमी की हो ऐसा भी कहीं से कहीं नही लगता है।

इसलिये जब जागे तब सवेरा की तर्ज पर अब भी समय है कि नपा को नगर की स्वच्छता के लिये जुटना होगा। स्वच्छता को लेकर शो बाजी करने की बजाय अच्छे कदम उठाना होगें तथा योजनाबद्ध तरिके से अभियान संचालित करना होगा, तभी सफलता की सीढी पर चढ पायेगे। इस मामले में नपा सीएमओ एलएस डोडिया का कहना है कि रैंकिंग बढ़ाने को लेकर सारे प्रयास किए गए थे, फिर भी हम पिछड़ गए। इस वर्ष आगामी दिनों में औेर अधिक प्रयास करेंगे। नगरवासियों ने भरपुर सहयोग दिया है। आगे भी नगरवासियों के सहयोग से हम अच्छी रैंकिंग प्राप्त करेंगे।

नव भारत न्यूज

Next Post

वैक्सीनेशन अभियान: लोगों को ढूंढ-ढूंढ कर लगाया वैक्सीन

Thu Nov 25 , 2021
रतलाम: जिले में शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन सुनिश्चित करने के लिए सभी वैक्सीनेशन केंद्रों पर शाम होने तक वैक्सीनेशन का कार्य जारी है। शहर के बाजार क्षेत्रों में अभियान चलाकर लोगों को वैक्सीन के डोज लगाए जा रहे हैं। सड़कों और बाजारों में स्वास्थ्य विभाग और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की टीम राहगीरों को […]