विधायकों को नसीहत , अपना परफॉर्मेंस सुधार लें

6 संभागों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री की दो टूक भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन और इंदौर संभाग के विधायकों की बैठक आज
लिलेश सातनकर
भोपाल:  कार्यकर्ताओं की पार्टी कहलाने वाली भाजपा समय से पहले ही सत्ता और संगठन की कसावट में लग गई है. प्रदेश भाजपा कार्यालय में बुधवार को ग्वालियर-चंबल, जबलपुर, सागर, रीवा और शहडोल संभाग के विधायकों से भाजपा के दिग्गजों ने वन-टू-वन चर्चा के साथ संयुक्त बैठक में विधायकों को नसीहत दी गई है. भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत एवं सह संगठन महामंत्री हितानंद 6 संभागों के विधायकों की बैठक में शामिल हुए.

इससे पहले भाजपा कार्यालय में विधायकों की बैठक शुरू हो गई है. पार्टी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश, प्रदेश प्रभारी पी मुरलीधर राव और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा मंत्रियों व विधायकों के साथ अलग-अलग बंद कमरे में चर्चा कर रहे हैं. पहले चंबल क्षेत्र के मंत्रियों को बुलाया गया, फिर विधायकों को. इनसे फीडबैक लिया गया. इसके बाद देर शाम 6 संभागों की संयुक्त बैठक हुई. सत्ता पर संगठन की कसावट के कवायद की जा रही है. यही कारण है कि बैठक का एजेंडा जारी नहीं किया गया था. यह पहला मौका होगा, जब शिवप्रकाश ने विधायकों से सीधे संवाद किया है. भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश ने विधायकों से अपना रिपोर्ट कार्ड तैयार करने को कहा है. साथ ही अपनी जुबान पर लगाम लगाने को कहा गया है. सरकार की योजनाओं की जमीनी हकीकत भी संगठन ने जानी है. सरकार की गरीब कल्याण संबंधी योजनाओं को जमीन पर उतारने में उनकी भूमिका और संगठन की भूमिका का रोडमैप तैयार किया जा रहा है. विधायकों से क्षेत्र के कामकाज का फीडबैक भी लिया.

वहीं विधायकों के फीडबैक को जिला स्तर से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर मिलान किया जाएगा. आज और कल में सभी विधायकों से क्षेत्र के बारे में उनका रोड मैप भी जाना जा रहा है. वहीं पी मुरलीधर राव ने कहा कि क्षेत्र के पेंडिंग कामकाज को पूरा करें और योजनाओं का लाभ हितग्राही को दिलाने के लिए संगठन के कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी सौंपे. आगामी चुनाव की दृष्टि से आगामी चुनौतियों जितनी संगठन है, उतनी ही विधायकों की भी की है. दो दिवसीय इस बैठक में विधायकों से केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं का फीडबैक लिया जा रहा है. उनके द्वारा क्षेत्र में किए गए उनके कामों की जानकारी, पिछली बैठक में दिए गए होम वर्क का अपडेट पूछा गया.भाजपा प्रदेशाध्यक्ष शर्मा ने बताया कि ठाकरे के जन्मदिन शताब्दी वर्ष के कार्यक्रम और प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नेतृत्व में गरीब कल्याण की योजनाओं को नीचे तक कैसे ले जा सकते है, इस संबंध में विधायकों से चर्चा हुई है.
मिशन-2023 की तैयारी
मिशन-2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है. विधायकों के साथ संगठन के पदाधिकारियों को जिम्मेदारियां दी जाएंगी. खासकर आदिवासी और दलित वोट बैंक को साधने के लिए सत्ता-संगठन के संयुक्त कार्यक्रमों की रूपरेखा भी तैयार की जाएगी. बैठकों के दौरान आगामी पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव पर भी फोकस है.
परफॉमेंस ठीक करें, अब होगी कवावट
विधायकों के रिपोर्ट कार्ड को लेकर दो टूक कह दिया गया है कि यदि आपका परफॉर्मेंस ठीक नहीं रहा, तो टिकट से हाथ धोना पड़ेगा. लिहाजा सुधर जाइए और फिल्ड में खुद को मजबूत कीजिए.
कब, किस क्षेत्र के विधायकों से चर्चा
24 नवंबर: ग्वालियर-चंबल, जबलपुर, सागर, रीवा और शहडोल संभाग के विधायक.
25 नवंबर: भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन और इंदौर संभाग के विधायकों को बुलाया गया है.

नव भारत न्यूज

Next Post

स्वच्छता रैकिंग में दूसरे से तीसरा स्थान और झोनल रैकिंग में 29 से 99वें स्थान पर पहुंचा

Thu Nov 25 , 2021
  झाबुआ: आखिरकार स्वच्छता सर्वेक्षण में जहां 25 से 50 हजार की जनसंख्या में गत वर्ष झाबुआ रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पर आया था, वही कुछ उदासिनता एवं उचित एवं योजनाबद्ध कार्य के अभाव में इसकी रेकिंग नीचे खिसक गई और झाबुआ इस वर्ष तीसरे स्थान पर आ गया […]