साढ़े 11 किमी की 1750 हेक्टेयर जमीन को सिंचित करेगी छोटी नहर

कल बड़ी नहर से छोड़ा जाएगा चीलर बांध का पानी, कमांड एरिया में शुरू हुआ बुआई का दौर

शाजापुर:  सिंचाई विभाग ने चीलर डेम से छोटी नहर के गेट खोलकर रबी फसलों की सिंचाई के लिए इस सीजन में पहली बार पानी छोड़ा है. इस नहर का पानी गिरवर से होते हुए सतगांव तक 11.5 किलोमीटर की 1750 हेक्टेयर कृषि भूमि को सिंचित करेगी. वहीं बड़ी नहर से 25 नवंबर को सिंचाई के लिए पानी छोड़े जाने की तैयारी है. जिले में दोनों नहरों से कुल मिलाकर 5238 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र में रबी फसलों की सिंचाई होगी.बता दें अधिकारियों ने चीलर डेम पहुंचकर पानी की टेस्टिंग के बाद रविवार को जब नहर के गेट खोले थे, तब पहली खेप में डेम से बिल्कुल साफ पानी निकला था, लेकिन इंदिरानगर, ज्योतिनगर तक पहुंचने पर पानी का रंग गंदगी के कारण काला पड़ गया था.

इस बारे में अधिकारियों का कहना था कि दो साल से नहर बंद थी, इस दौरान काफी गंदगी नहर में जमा हो गई थी. इसी वजह से जब नहर से पानी छोड़ा गया, तो साफ पानी नहीं पहुंच पाया. हालांकि मंगलवार को नहर का पानी साफ दिखाई दिया. गौरतलब है कि सिंचाई विभाग ने कोरोना संक्रमण के चलते बीते साल रबी फसलों की सिंचाई के लिए नहर से पानी नहीं छोड़ा था. इसी वजह से नहर में गंदगी भी जमा हो गई थी. इसके अलावा गत वर्ष डेम में भी जलस्तर निम्न था. बारिश के इस सीजन में औसत से भी ज्यादा बारिश होने से डेम पानी से लबालब है और गर्मी के सीजन में जहां डेड स्टोरेज पर पानी पहुंच गया था, वहीं अब डेम में 22 फीट से ज्यादा के स्तर तक पानी जमा है.
बड़ी नहर से होगी 2488 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई
25 नवंबर को बड़ी नहर से पानी छोड़ा जाएगा. यह नहर 21.5 किलोमीटर लंबी है. बड़ी नहर से जुड़ी दो उप नहरें भी हैं. बड़ी नहर के माध्यम से 3488 हेक्टेयर क्षेत्र में रबी फसलों की सिंचाई होगी. छोटी और बड़ी दोनों नहरों से कुल मिलाकर 5238 हेक्टेयर क्षेत्र में रबी फसलों की सिंचाई होती है.

किसानों ने शुरू की बुआई
रबी फसलें पूरी तरह सिंचाई पर निर्भर रहती हैं. यही कारण है कि नहर शुरू नहीं होने तक कमांड एरिया के किसान बुआई नहीं करते. लेकिन छोटी नहर के शुरू हो जाने से इस नहर के कमांड एरिया में आने वाले किसानों ने अपने खेतों में बुआई का काम लगभग पूरा कर लिया है. शेष किसान भी खेतों में बुआई का काम कर रहे हैं. इसके बाद बड़ी नहर के कमांड एरिया में आने वाले किसान बुआई करेंगे.
इधर, खाद के लिए जद्दोजहद बुआई से निवृत्त होने के बाद किसान अब फसलों के अच्छे उत्पाद की चिंता में लग गए हैं. यही कारण है कि किसानों की भीड़ सोसायटियों में उमड़ रही है. यहां बड़ी संख्या में किसान खाद के लिए पहुंच रहे हैं. जहां कतारों में खड़े होकर उन्हें खाद के लिए जद्दोजहद करना पड़ रही है.
इनका कहना है…
‘सिंचाई के लिए पहले छोटी नहर से पानी छोड़ा गया है. यह नहर 1750 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई के लिए पानी पहुंचाएगी. वहीं 25 नवंबर को बड़ी नहर से पानी देने की योजना है.Ó – अंकित पाटीदार, एसडीओ, सिंचाई विभाग

नव भारत न्यूज

Next Post

ऐसी उमड़ी भीड़ कि कम पड़ गई कई बार डोज, टीके के लिए अड़े रहे लोग

Wed Nov 24 , 2021
एक दो नहीं बल्कि तीन बार बुलानी पड़ी डोज, तीसरी बार में अफसर खुद पहुंच गए मानीटरिंग करने जबलपुर :  टीका लगवाने को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह भी देखा जा रहा है। टीका से दूर भाग रहे लोग भी अब टीका लगाने के लिए लालियत हो रहे हैं। कुछ […]