ग्वालियर के एक घर में चोरी छिपे बनी गांधीजी के हत्यारे नारायण आप्टे की मूर्ति मेरठ में स्थापित

ग्वालियर:  ग्वालियर के एक घर में चोरी छुपे बनवाई गई गोडसे के साथी नारायण आप्टे की मूर्ति को अब गोडसे के साथ मेरठ के हिंदू महासभा भवन में स्थापित कर दिया गया है। 15 नवंबर 1949 को दोनों को महात्मा गांधी की हत्या के मामले में फांसी हुई थी। इसलिए दोनों की मूर्ति की स्थापना के लिए यह दिन चुना गया। गांधी के हत्यारों की मूर्ति स्थापना से तनाव का माहौल हो गया है। मेरठ पुलिस दो बार पहले भी मूर्ति स्थापना को रोक चुकी है। मूर्ति स्थापना मेरठ में हुई है , लेकिन इसमें ग्वालियर के हिंदू महासभा की टीम का रोल अहम माना जा रहा है। मेरठ के कार्यक्रम की गोपनीय बैठक से लेकर मूर्ति तैयार कराने का पूरा काम ग्वालियर टीम का ही था।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे की बात चले और ग्वालियर व हिंदू महासभा का जिक्र न हो ऐसा हो नहीं सकता है। हिंदू महासभा की एक टीम ने मेरठ हिमस के भवन में सोमवार 15 नवंबर को नाथूराम गोडसे व नारायण आप्टे की मूर्तियों की स्थापना की है। खास बात यह है कि नारायण आप्टे की मूर्ति ग्वालियर में ही बनी है। यह मूर्ति यहां प्रशासन से चोरी छुपे तैयार कराई गई थी। इसके साथ ही नाथूराम गोडसे की मूर्ति भी बनाई गई है। जिसे कभी भी ग्वालियर में स्थापित किया जा सकता है। आप्टे की मूर्ति सितंबर के आखिरी सप्ताह में मेरठ पहुंचा दी गई थी। पहले उसे 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर स्थापित करना था, लेकिन प्रशासन की सख्ती के चलते नहीं हो सकी। अब जाकर मूर्तियों को स्थापित किया है।

ग्वालियर में करीब 3 महीने पहले 2 फीट ऊंची नारायण आप्टे की मूर्ति बनाने का काम शुरू हुआ था। 45 हजार रुपए में तैयार की गई इस मूर्ति का काम सितंबर के आखिरी सप्ताह में पूरा हो गया था। मेरठ में इसकी स्थापना के लिए मूर्ति सितंबर के आखिरी सप्ताह में ही रवाना भी कर दी गई थी, जबकि स्थानीय प्रशासन और पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। यह पहला मौका नहीं है जब हिंदू महासभा ने पुलिस और प्रशासन को चकमा दिया हो। इससे पहले भी वह नाथूराम गोडसे का मंदिर और ज्ञानशाना की स्थापना कर चुके हैं और बाद में प्रशासन ने कार्रवाई की थी।
हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने बताया कि उनका मकसद सिर्फ नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे से पूरे देश के युवाओं को परिचित कराना है। युवा पीढ़ी उनके विचारों को समझें। उनके बारे में जितना बताया जाता है उससे कहीं ज्यादा छुपाया जाता है।

नव भारत न्यूज

Next Post

18 साल बाद सीएम को बिरसा मुंडा जयंती मनाने की याद आई

Tue Nov 16 , 2021
आदिवासी के नाम पर बीजेपी सिर्फ वोट बैंक की राजनीति कर रही जयंती पर बिरसा मुंडा को नमन करने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बोले जबलपुर:  25 साल कीउम्र में शहीद बिरसा मुंडा द्वारा आदिवासियों के हित में वो काम किए की आज उन्हें पूरा देश नमन कर रहा है। उन्होंने […]