मैंने अंग्रेजी आठवीं में सीखी: रमन

नयी दिल्ली, 13 नवंबर (वार्ता) … मैंने तेलुगु माध्यम से स्नातक तक की पढ़ाई की और अंग्रेजी आठवीं कक्षा में सीखी और दुर्भाग्य से एक बेहतर वक्ता नहीं हूं।
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश एन. वी. रमन ने शनिवार को दिल्ली में प्रदूषण की समस्या से जुड़ी एक याचिका की सुनवाई के दौरान शनिवार को ये बातें सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहीं।

दरअसल, श्री मेहता प्रदूषण के कारणों में शामिल ‘पराली’ जलाने को लेकर सरकार का पक्ष सर्वोच्च अदालत के समक्ष रख रहे थे।
इसी दौरान उनको लगा कि कोई भाषागत त्रुटि हो गई है ।
उन्होंने अदालत से इसके लिए विनम्रता पूर्वक क्षमा मांगते हुए कहा कि वकील के तौर मामले से संबंधित तथ्य अदालत में प्रस्तुत करते समय कई बार भाषागत त्रुटियों की वजह से गलत संदेश जाता है, जबकि वैसा कोई इरादा नहीं होता।

मुख्य न्यायाधीश ने श्री मेहता के इस सहज स्वीकारोक्ति पर बेवाक लहजे में कहा, “मैंने आठवीं कक्षा में अंग्रेजी सीखी और दुर्भाग्य से मैं एक बेहतर वक्ता नहीं हूं।”
श्री मेहता ने न्यायमूर्ति रमन के इस सहज अंदाज़ पर कहा कि उन्होंने खुद आठवीं कक्षा में अंग्रेजी सीखी और गुजराती माध्यम से स्नातक स्तर तक की पढ़ाई की थी।

मुख्य न्यायाधीश ने मित्रवत लहजे में जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने भी तेलुगु माध्यम से स्नातक स्तर तक की पढ़ाई की जबकि कानून की पढ़ाई अंग्रेजी माध्यम में की थी।

इस पर सॉलिसिटर जनरल ने कहा, “मैंने भी कानून की पढ़ाई अंग्रेजी माध्यम से की थी।”
इसके बाद में श्री मेहता ने कहा, ‘मुझे अब तक इसकी जानकारी नहीं थी कि कुछ मामले में मुख्य न्यायाधीश और मुझ में एक प्रकार की समानता है।
मुझे इस संयोग पर गर्व है।’

नव भारत न्यूज

Next Post

गुरु नानक देव के 552वें प्रकाश पर्व पर जलाए गए 552 दीये

Sun Nov 14 , 2021
नयी दिल्ली,  (वार्ता) सिख धर्म के संस्थापक श्री गुरु नानक देव के 552वें प्रकाश पर्व के अवसर पर शनिवार को दिल्ली का कॉन्स्टीट्यूशन क्लब रोशनी से जगमगा उठा। प्रकाश पर्व के अवसर पर यहां ‘सरबत द भला’ संस्था की ओर से आयोजित सेमिनार में मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह […]