रूट बदलने रोका तो पहले बम फेंके फिर बरसाए पत्थर

डेढ़ घंटे तक चला बवाल, छावनी में तब्दील हुआ मछली मार्केट

जबलपुर:  ईद मिलादुन्नबी पर्व के दौरान मछली मार्केट के पास मंगलवार दोपहर बड़ी संख्या में युवा जुलूस की शक्ल में पहुंचे जहां पहले से ही सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने पुलिस फोर्स तैनात था। युवा सराफा की ओर आने जाने का प्रयास करने लगे जिन्हें पुलिस जवानों ने बैरीकेट से बाहर आने से रोका तो आक्रोशित हो गए और बम फोडऩा शुरु कर दिए यहां तक के एक दो बम तैनात पुलिस बल के पास भी आकर गिरे, जिन्हे समझाया गया लेकिन वह नहीं माने तो पथराव शुरू कर दिया। जिसके बाद हालात तनावपूर्ण हो गए।

पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने लाठीचार्ज करते हुए भीड़ को खदेडऩे के लिए अश्रु गैस के गोले छोड़ दिए। पथराव मेें पांच जवान घायल हुए है। जिन्हें तत्काल उपचार के लिए भेज दिया गया था। करीब डेढ़ घंटे तक बवाल चलता रहा। इधर पथराव किए जाने की खबर के बाद भारी संख्या में पुलिस अधिकारी बल सहित मौके पर पहुंच गए और मुस्लिम बाहुल्य इलाकों को घेरकर पैदल मार्च शुरु कर दिया। सुरक्षा के लिहाज से मछली मार्केट क्षेत्र में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। इससे पहले इसी तरह का तनाव सुबह रद्दी चौकी में भी हुआ था, लेकिन तब पुलिस ने मामला संभाल लिया था।

कई वाहन, डीजे क्षतिग्रस्त, सड़क पर नजर आए जूते-चप्पल-
बवाल के चलते सड़क पर खड़े कई वाहन क्षतिग्रस्त हुए है। साथ ही डीजे एवं अन्य सामान का भी नुकसान हुआ है। भगदड़ एवं अफरा-तफरी के कारण सड़कों पर भीड़ के जूते, चप्पल भी बड़ी संख्या में नजर आए।

2500 से अधिक का बल रहा तैनात-
उल्लेखनीय है कि खुशी के त्यौहार के बीच कोई विवाद या व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए सुबह पांच बजे से शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। शहरी क्षेत्र में 2500 से अधिक का पुलिस बल लोगों की सुरक्षा एवं समुचित व्यवस्था बनाए रखने के लिए किया गया था। उल्लेखनीय है कि ईद मिलादुन्नबी पर्व पर शांति और सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात थी। सोमवार देर शाम फ्लैग मार्च भी किया था।

पहले से तय किया गया था रूट मुस्लिम समाज की बैठक में अधिकारियों ने पहले ही तय कर दिया था कि अपने ही गली मोहल्ले में जुलूस निकाल सकते हैं। मिश्रित आबादी से जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई थी। इसे लेकर सभी प्रमुख तिराहे-चौराहे पर बेरीकेट लगा दिया गया था।

पुलिस पर पटाखा फेंकने वाला गिरफ्तार उपद्रवी नकाब में पुलिस पर पथराव करने लगे। इस पथराव की अगुवाई 15 वर्ष से लेकर 25 वर्ष की उम्र के युवक कर रहे थे। पुलिस ने जवानों पर पटाखा फेेंकने वाले एक उपद्रवी को हिरासत में लिया है।

दर्जनों आंसू गैस के गाले छोड़े दो तरफ से भीड़ के बीच में पुलिस खड़ी थी। एक ओर की भीड़ जुलूस वाली थी, तो दूसरी ओर की गली में उपद्रवी पत्थर बाजों की शक्ल में मोर्चा संभाले हुए थे। भीड़ को काबू करने के लिए दर्जनों अधिक आंसू गैस के गोले पुलिस को छोडऩे पड़े थे। तब कहीं जाकर भीड़ तितर-बितर हुई।

कलेक्टर-एसपी मौके पर पहुंचे
मामले की संवेदनशीलता को देखते हुये कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा तत्काल घटना स्थल पर पहुँच गए थे। पुलिस कप्तान बहुगुणा ने बताया कि अशांति पैदा करने वाले असामाजिक तत्वों की पहचान कर ली गई है और उन पर कठोर कार्यवाही की जा रही है।

सुब्बा शाह मैदान में हुआ समाप्त विवाद के बीच में मौलाना इम्तियाज, कदीर सोनी सहित अन्य लोगों ने भी आगे बढ़कर मोर्चा संभाला। वे मौके पर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा और एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा से मिले। आश्वस्त किया कि उन्हें मौका दिया जाए, वे उपद्रवियों से बात कर समझाने का प्रयास करेंगे। इसके बाद गली के पत्थरों को किनारे कर जुलूस निकालने पर सहमति बनी। पुलिस की निगरानी में जुलूस सुब्बाशाह मैदान की ओर बढ़ गया जहां समापन किया गया।
उपद्रव मचाने वालों की हुई पहचान उपद्रव की वीडियोग्राफी कराई गई है। वीडियोग्राफी समेत क्षेत्र में लगे सीसीटीव्ही कैमरों के फुटेज पुलिस द्वारा खंगाले गए। उपद्रव मचाने वालों को चिहिन्त कर लिया गया है। साथ ही उनकी धरपकड़ शुरू कर दी गई है।

इनका कहना है
हालात काबू में हैं। कुछ उपद्रवियों ने शहर की फिजा खराब करने की कोशिश की थी। उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा। ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है।
कर्मवीर शर्मा, कलेक्टर

सुरक्षा के लिहाज से मछली मार्केट क्षेत्र में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। कुछ को हिरासत में लिया गया है।
रोहित काशवानी, एएसपी

नव भारत न्यूज

Next Post

बारिश से किसानों को नहीं चलाने पड़े पंप , बारिश से गिरी डिमांड

Wed Oct 20 , 2021
जबलपुर: बारिश की वजह से मौसम जहां ठंडा हुआ वहीं बिजली की डिमांड भी घट गई। सिंचाई के लिए पंप चलना बंद हुए तो डिमांड कम हुई। इधर कोयला का स्टाक भी बेहद कम हाे चुका है। श्री सिंगाजी पावर प्लांट 600 मेगावाट की एक इकाई कोयला नहीं होने के […]