बिना अनुमति बनाया 16 हजार स्केवेयर फीट स्ट्रक्चर

निगम ने तोड़ा अवैध निर्माण, निर्माणकर्ता ने 22 लाख की पहुंचाई वित्तीय हानि

इंदौर:  निगम के अवैध निर्माण पर मंगलवार को बड़ी कार्रवाई की. मयंक ब्लू वाटर के पास बिना अनुमति के बनाए 16 हजार स्केवेयर फीट में बने अवैध स्ट्रक्चर को तोड़ा गया. अवैध निर्माणकर्ता ने निगम को लगभग 22 लाख से अधिक की वित्तीय हानि पहुंचाई. नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल के निर्देश पर नगर निगम की टीम ने मंगलवार को मयंक ब्लू वाटर पार्क के पास रमेश भाटिया क्रिकेट अकादमी के सामने श्रीमती निर्मला राधेश्याम पटेल व सुधांशु शर्मा एवं अन्य द्वारा बिना अनुमति के लगभग 16000 स्मयर फीट में अवैध रूप से सेट एवं स्ट्रख्र का निर्माण करने पर अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई की.

आयुक्त ने बताया कि अवैध निर्माणकर्ता को पूर्व में कई बार नोटिस जारी कर निर्माण की अनुमति नियमानुसार प्राप्त करने के लिए सूचना दी गई थी. साथ ही अवैध निर्माण नहीं करने के लिए भी सूचित किया था. उसके उपरांत भी निर्माणकर्ता द्वारा अवैध निर्माण किया गया. अवैध निर्माणकर्ता द्वारा यदि निगम से विधिवत अनुमति प्राप्त की जाती तो लगभग 22 लाख से अधिक का भवन अनुज्ञा शुल्क का भुगतान निगम को करना होताय इस प्रकार अवैध निर्माणकर्ता द्वारा निगम से विधिवत अनुमति प्राप्त नहीं कि जाकर निगम को 22 लाख से अधिक राशि का की वित्तीय हानि भी पहुंचाई गई है.

बिना अनु रिमूवल कार्रवाई के दौरान अपर आयुक्त संदीप सोनी, उपायुक्त लता अग्रवाल, भवन अधिकारी गजल खन्ना ,रिमूवल सहायक बबलू कल्याण, बड़ी संख्या में जिला प्रशासन पुलिस प्रशासन और निगम प्रशासन के अधिकारी एवं कर्मचारी गण उपस्थित थे. गौरतलब है कि आयुक्त ने ऐसे निर्माणकर्ता जिनके द्वारा बिना अनुमति के और निगम को बिना भवन अनुज्ञा शुल्क भुगतान किए गए अवैध निर्माण किए गए उन्हें चिन्हित किए जाकर उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही एवं रिमूवल कार्यवाही क करने के निर्देश दिए गए हैं.

नव भारत न्यूज

Next Post

जनता के प्रति जवाबदेह रहे, उन्हें न्याय दिलाएं

Wed Oct 13 , 2021
कलेक्टर ने अधिकारियों की बैठक में दिये निर्देश इंदौर: सभी राजस्व अधिकारी राजस्व संबंधी कार्यों को निर्धारित समय-सीमा में पारदर्शी रूप से नियमानुसार करें. वे ऐसा कोई कार्य नहीं करें, जिससे की किसी भी व्यक्ति को उसका नाजायज लाभ मिल सकें. सभी अधिकारी जनता के प्रति जवाबदेह रहे. उनकी समस्याओं […]