साइबर सुरक्षा में सुधार पर फोकस करेगा इरडाआई

नयी दिल्ली  (वार्ता) बीमा नियामक इरडाआई ने आज कहा कि वह साइबर अपराध के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच बीमा कंपनियों को जरूरत के अनुसार मार्गदर्शन करने पर ध्यान केंद्रित करेगा।

इरडाआई की सदस्य एस. एन. राजेश्वरी ने गुरुवार को उद्योग एवं वाणिज्य संगठन एसोचैम के राष्ट्रीय ई-सम्मेलन में कहा, “नियामक और बीमा कंपनियां मिलकर समय की जरूरत के अनुसार साइबर सुरक्षा में सुधार पर ध्यान केंद्रित करेंगी।
साइबर जोखिम स्थिर नहीं होते हैं इसलिए साइबर बीमा भी स्थिर नहीं रहने वाला है।
ऐसे में जागरूकता पैदा करने के साथ ही साइबर बीमा पारिस्थितिकी तंत्र, साइबर साक्षरता, प्रत्येक एजेंसी, कंपनियों को एक दूसरे के साथ समन्वय करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि बीमा कंपनियां ग्राहकों, पॉलिसीधारकों के बहुत बड़े डेटा का प्रबंधन करती हैं इसलिए हमेशा जोखिम में रहती हैं।
ऐसी परिस्थिति में इरडाआई ने साइबर बीमा के लिए उत्पाद संरचना पर जारी अपने मार्गदर्शन दस्तावेज में प्रत्येक कंपनी के लिए दिशानिर्देश और मानदंड निर्धारित किये हैं।
डेटा और बैकअप डेटा को कहां रखा जाना है और इसकी समीक्षा कैसे की जा रही है, इन सबके लिए एक सूचना सुरक्षा नीति होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि 08 सितंबर 2021 को इरडाआई द्वारा जारी किए गए मार्गदर्शन का उद्देश्य बीमाकर्ताओं को यह मूल्यांकन करने में सक्षम बनाना है कि वे कौन सी नई प्रौद्योगिकियां हैं जो साइबर जोखिम पैदा कर रही हैं।
उन्होंने कहा, “बेशक, वाणिज्यिक और व्यक्तिगत दोनों के लिए बाजार में साइबर बीमा उत्पाद उपलब्ध हैं।
ऐसे में इरडाआई द्वारा बताए गए संभावित जोखिम की वे पहचान कर सकेंगे।

नव भारत न्यूज

Next Post

जान हथेली पर लेकर टीकाकरण करने जा रही स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा व्यवस्था करें

Fri Sep 24 , 2021
संजय चुन्नू बाजपेई धार :  कोरोना महामारी और इंसान के बीच चल रही जंग में कोरोना को हराने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है । जहां एक और डॉक्टर मरीजों का इलाज कर उन्हें नई जिंदगी दे रहे हैं तो वही अन्य छोटे स्वास्थ्यकर्मी जमीनी […]