एक घंटे की झमाझम बारिश से सड़कें हुई जलमग्न

खंडवा:  शहर में दोपहर लगभग एक घंटा जमकर बारिश हुई। तीन पुलिया पर नालों की गंदगी दो घंटे से ज्यादा बही। बदबूदार पानी से रेलवे स्टेशन रोड से गुजरने वाले राहगीर व व्यवासय करने वालों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। रबड़ी की तरह बहे पानी ने नगर निगम की सफाई व्यवस्था पर सवालिया निशान लगा दिया। शहर के मुख्य बाजारों में नालियों का पानी बाढ़ की तरह सड़क पर आ गया।

रेलवे स्टेशन क्षेत्र की हालत यह हो गए कि लोगों के वाहन फंस गए। पानी से गांधी भवन तो जल महल में बदल गया। बस स्टैंड से तीन पुलिया तक तो घुटने तक गंदगी भरे पानी से लोग निकले। लगभग आधे घंटे तक पानी रोड पर नदी की तरह जमा रहा। लोग गंदे पानी में फंसे रहे। दुकानदारों ने दुकान के बाहर बने चेम्बरों को खोला और अपने हाथ से नाली से कचरा निकालकर पानी का रास्ता बनाया। इसके बाद सड़क से पानी कम हुआ। तीन पुलिया की स्थिति भी ऐसी ही थी। यहां पानी भरने से आवाजाही ही बंद हो गई।

सड़कों पर जलभराव होने के साथ ही तीन पुलिया भी ओवरफ्लो होकर बहने लगी। तीन पुलिया में तेज बहाव होने के चलते यहां से निकलकर रहे बाईक सवार काका ससुर ओर दामाद पानी के तेज बहाव में बह गए। वहीं बाइक पुलिया की रेलिंग में जा फंसी। पुलिस के मुताबिक दामाद रविंद्र पुत्र हरि दोहरे (45) निवासी नेपानगर को आगे जाकर बाहर निकाल लिया गया। जिस उपचार हेतु जिला अस्पताल पहुंचाया गया।

वहीं चाचा ससुर शिवदास पुत्र बहादुर सोनवने (61) निवासी रवींद्र नगर की खबर लिखे जाने तक तलाश जारी थी। गौरतलब हो कि बारिश के समय तीन पुलिया के समीप बेरिकेडिंग नही किए जाने से हादसे की स्थिति निर्मित होती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि प्रशासन की लापरवाही का आलम है कि यहां आए दिन हादसे होते हैं। इसके बाद भी न तो बैरिकेडिंग की जाती है। और न ही आपदा नियंत्रण दल को।

नव भारत न्यूज

Next Post

55 लाख गबन मामले में सेल्समैन पर एफआईआर

Tue Sep 21 , 2021
कटनी :  कलेक्टर प्रियंक मिश्रा के निर्देश पर उचित मूल्य दुकान हरदहटा के विक्रेता सुनील मिश्रा पिता देवशरण मिश्रा के विरुद्ध बरही थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। संबंधित द्वारा उपभोक्ता सिल्क की राशि 55 लाख 60 हजार नौ सौ इकत्तीस रुपये अपने पास रखकर कर शासन को हानि […]
NB NEWS-590