मुरैना पुलिस अधीक्षक के शिक्षक पिता निलंबित

आयकर दाता होने के बाद भी किया तीर्थ दर्शन के लिए आवेदन
सतना:मुरैना पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी के पिता सहायक शिक्षक लालजी बागरी को निलंबित कर दिया गया है। उनका निलंबन आदेश सतना कलेक्टर की ओर से जारी किया गया। शासकीय माध्यमिक शाला मसनहा में निलंबित लालजी बागरी सहायक शिक्षक पद पर पदस्थ हैं। अपात्र होते हुए भी उन्होंने मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत द्वारका (गुजरात) तक यात्रा के लिए आवेदन किया था।
दरअसल 24 जनवरी को मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत सतना से द्वारका के लिए तीर्थ यात्रा रवाना हुई है। इसके लिए जिला प्रशासन ने जब आवेदन मंगाए थे , तो रघुराजनगर तहसील के ग्राम गड़रा निवासी लालजी बागरी ने पत्नी विद्या बागरी के साथ तीर्थ यात्रा करने का आवेदन भरा था , जबकि सरकारी नौकरी और इनकम टैक्स पेयर होने की वजह से वे इस योजना के लिए अपात्र हैं। हालांकि उनका कहना है कि आवेदन उन्होंने खुद नहीं बल्कि उनके नाम से उनके परिचित ने किया था।

इस मामले में पहले तो सतना जिला प्रशासन ने सहायक शिक्षक और उनकी पत्नी का नाम चयनित यात्रियों की सूची से अलग किया, अब सहायक शिक्षक को निलंबित भी कर दिया गया है। दस्तावेजों के अनुसार उनकी जन्मतिथि 26 जून 1962 है। उनकी सेवानिवृत्ति 2024 में होगी। सतना कलेक्टर अनुराग वर्मा ने कहा, अपात्र होने के बाद भी योजना में आवेदन दिए जाने की जानकारी मिली तो उनका नाम सूची से हटा दिया है।
आदेश में लिखा प्रशासन की छवि धूमिल हुई
आदेश में लिखा है, लालजी बागरी सहायक शिक्षक के पद पर हैं। इन्होंने यात्रा में जाने के लिए स्वीकृति भी नहीं ली थी। साथ ही तथ्यों को छिपाकर गलत तरीके से योजना का लाभ प्राप्त करने का कूट रचित प्रयास किया जाना पाया गया है। उनके इस काम से जिला प्रशासन समेत विभाग की छवि धूमिल हुई है। उन्हें निलंबित किया जाता है।
परिचित ने किया आवेदन
इस मामले में सहायक शिक्षक लालजी बागरी का कहना है कि न तो वे तीर्थ दर्शन यात्रा में जाने वाले थे और न ही उन्होंने इसके लिए स्वयं आवेदन दिया था। उनकी कोई तैयारी भी नही थी। इसलिए उन्होंने विभाग से अनुमति अथवा अवकाश के लिए कोई आवेदन भी नहीं दिया था। अगर उन्हें जाना ही होता तो कम से कम अवकाश का आवेदन तो अवश्य ही कर देते लेकिन उन्होंने ऐसा इसलिए नहीं किया था क्योंकि वे जाने के लिए तैयार ही नहीं थे। उन्होंने बताया- मेरे नाम से आवेदन मेरे एक परिचित प्रकाश नारायण शुक्ला ने कर दिया था।

नव भारत न्यूज

Next Post

खनिज माफियाओं को अभयदान

Wed Jan 25 , 2023
100 खदानें चल रही नियम विरुद्ध, कार्रवाई सिर्फ बीस पर मंदसौर: जिले में संचालित 100 से अधिक खदानें नियम विरुद्ध व खनिज अधिकारियों की सांठगांठ से चल रही हैं। सालभर में कलेक्टर द्वारा दो बार दिए निर्देश के बाद भी अब तक कार्रवाई नहीं होने से होता है। हालात ये […]