हादसों की आशंका के बीच जोर पकडऩे लगी बायपास की मांग

सुसनेर: राजगढ़ संसदीय क्षेत्र के जीरापुर एवं सुसनेर से होकर गुजरने वाले 752 बी डग-जीरापुर के निर्धारित मार्ग का स्थान परिवर्तन कर बाय पास बनाए जाने की मांग को लेकर मंगलवार को व्यापारी संघ द्वारा एसडीएम कार्यालय में पहुंचकर एसडीएम सोहन कनाश को ज्ञापन दिया गया. ज्ञापन में बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग 752 बी डग-जीरापुर मार्ग सुसनेर के बीचों बीच उज्जैन-चवली मार्ग से निकल कर प्रस्तावित है. वर्तमान में एक राष्ट्रीय राजमार्ग होने पर ही औसतन एक दुर्घटना रोज होती है. सुसनेर के बीचों बीच दो राजमार्ग एक ही स्थान पर निकलने से क्षेत्र में आवागमन बाधित होगा, साथ ही जनहानि की संभावनाएं भी अति प्रबल होगी.

राजगढ़ जिले के खिलचीपुर-जीरापुर सहित आगर जिले के सुसनेर के नागरिकों के लिए ये मार्ग बनने की अच्छी खबर लेकर आया था कि अब जल्द ही जीरापुर से सुसनेर की राजस्थान के डग तक की सीमा के करीब 46 किमी का रोड डबल लाइन हाईवे में तब्दील होगा. इसके लिए करीबन 300 करोड़ रुपए की मोटी राशि खर्च की जाएगी. जानकारी के मुताबिक खिलचीपुर-जीरापुर-माचलपुर व छापीहेड़ा क्षेत्र के नागरिकों का सुसनेर व आगर, शाजापुर सहित उज्जैन व राजस्थान से सीधा जुड़ाव है. हर दिन नागरिकों का इस रोड के जरिये अलग-अलग क्षेत्रों में आना-जाना बना रहता है. ऐसे में सिंगल रोड होने के कारण यात्रियों को हर दिन परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में जीरापुर-सुसनेर डग मार्ग के लिए लंबे समय से क्षेत्रवासियों द्वारा मांग की जा रही थी.

लोगों की मांग व समस्याओं को देखते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एनएच 752 बी के जीरापुर से सुसनेर होते हुए मप्र राजस्थान बार्डर तक सड़क स्वीकृत करने की घोषणा की थी. जिसमे डबल लेन रोड बनाया जाएगा. करीब 46 किमी इस लंबे रोड के लिए करीबन 300 करोड़ रुपए से अधिक की राशि खर्च की जाएगी. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बाकायदा खुद इसकी जानकारी एक ट्वीट के जरिये दी थी. तब यहां के लोगो का खुशी का कोई ठिकाना नहीं था, परंतु इस मार्ग के शहर के नजदीक नवीन तहसील कार्यालय के पास से डाक बंगला चौराहे से डग रोड के बीच में से यह मार्ग निकलने वाला है, जिसके कारण भविष्य में होने वाली दुर्घटनाओं का डर यहां के लोगों को सताने लगा है. क्योंकि उक्त मार्ग के इसके यहां के गुजरने के कारण बीच के मकानों के जद में आने पर मुआवजा देने का सर्वे भी पूरा हो चुका है. परंतु पूर्व से इस जगह पर उज्जैन-चंवली नेशनल हाइवे के गुजरने के कारण यहां के लोगों को आए दिन होने वाली दुर्घटनाओं का डर सताने लगा है. शहर के बिल्कुल नजदीक उक्त मार्ग के दोनों एक स्थान से गुजरने के कारण यातायात के दबाब में यही के लोग दुर्घटनाओं का शिकार होंगे.
जीरापुर में बनेगा दो किमी का बायपास, लेकिन यहां नहीं
उक्त सड़क के साथ ही जीरापुर शहर में बायपास की सौगात भी मिलने वाली है. पचोर-सुसनेर बायपास का निर्माण जीरापुर शहर में कराया जाएगा, ताकि वहां शहर में ट्रैफिक जाम की स्थिति निर्मित न हो. स्थानीय नागरिकों के मुताबिक वहां करीब 2 किमी से अधिक का बायपास बनना है. परंतु सुसनेर क्षेत्र में भविष्य में होने वाले ट्रैफिक जाम और दुर्घटनाओं का ध्यान किसी ने नहीं दिया, जिस कारण यहां पर बायपास ना बनाते हुए उज्जैन-चंवली मार्ग के बीच में से शहर के बीच में इस मार्ग को निकाला जाने वाला है, अब यहां भी इस बायपास की मांग व्यापारियों द्वारा एसडीएम को ज्ञापन के माध्यम से की है. अब अगर इस मांग पर सरकार बायपास का निर्माण करती है, तो सुसनेर में भी इस जगह भविष्य में होने वाली यातायात की समस्या बहुत हद तक दूर हो सकेगी.

नव भारत न्यूज

Next Post

मुरैना पुलिस अधीक्षक के शिक्षक पिता निलंबित

Wed Jan 25 , 2023
आयकर दाता होने के बाद भी किया तीर्थ दर्शन के लिए आवेदन सतना:मुरैना पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी के पिता सहायक शिक्षक लालजी बागरी को निलंबित कर दिया गया है। उनका निलंबन आदेश सतना कलेक्टर की ओर से जारी किया गया। शासकीय माध्यमिक शाला मसनहा में निलंबित लालजी बागरी सहायक शिक्षक […]