जिले को मिला 1 लाख 20 हजार मैट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य

28 नवम्बर से समर्थन मूल्य के तहत जिले में 53 केन्द्रों पर होगा धान का उपार्जन,खरीदी को लेकर तैयारियां अंतिम चरण में

सिंगरौली: जिले में समर्थन मूल्य के तहत 28 नवम्बर यानी सोमवार से जिले के 53 केन्द्रों पर धान खरीदी की जायेगी। जिसको लेकर खाद्य विभाग के द्वारा सभी केन्द्रों पर धान खरीदी की तैयारियां लगभग अंतिम चरण में हैं। जिले को 1 लाख 20 हजार मैट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य दिया गया है।दरअसल समर्थन मूल्य पर धान का उपार्जन 28 नवम्बर सोमवार से जिले के निर्धारित सभी 53 केन्द्रों में किया जाना है। जिसको लेकर खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग के द्वारा जोर-शोर से तैयारियां की जा रही हैं। धान उपार्जन की अंतिम तिथि 16 जनवरी 2023 निर्धारित की गयी है। जिले में करीब 24 हजार से ज्यादा पंजीकृत किसान समर्थन मूल्य 2040 रूपये प्रति क्विंटल निर्धारित मूल्य से धान का उपार्जन केन्द्रों में करेंगे। धान खरीदी के लिए जिले के सभी 53 केन्द्रों में तौल काटें, बरदाने ं उपलब्ध करा दिये गये हैं।

किसान अपनी धान को बेचने के लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से अथवा एमपीआनलाईन कियोस्क सेंटर से स्लाट की बुकिंग की सुविधा 23 नवम्बर से प्रारंभ कर दी गयी है। धान का उपार्जन करने के लिए खरीदी केन्द्रों में आते समय किसान असुविधाओं से बचने के लिए पंजीकृत रसीद, स्लाट बुक पावती, आधार कार्ड एवं रजिस्टर्ड मोबाइल अपने साथ रखना अनिवार्य होगा। उपार्जन केन्द्र के प्रभारी तथा किसान द्वारा बायोमैट्रिक अथवा ओटीपी सत्यापन के बाद ही खरीदी की पावती जारी होगी। तत्संबंध में खाद्य अधिकारी ने नवभारत से चर्चा करते हुए बताया कि जिले के पंजीकृत 24 हजार से अधिक किसानों से तय समय में सरकार के द्वारा दिये गये लक्ष्य को हासिल करने का पूरा प्रयास किया जायेगा। हालांकि आने वाले समय में धान उपार्जन की तिथि और बढऩे की संभावना है।

अभी तक नाके पर नहीं तैनात हुए कर्मचारी
जिले में 28 नवम्बर से 53 केन्द्रों में शुरू हो रही धान उपार्जन की प्रक्रिया से पहले यूपी सहित अन्य राज्यों से आने वाले धानों को लेकर कोई तैयारी नहीं हो पायी है। जिले में चितरंगी क्षेत्र के बगदरा अंतर्गत झरकटा, गोभा, खनहना, जयंत, तेलगवां सहित अन्य जगहों में नाके तो बनाये गये हैं लेकिन अभी नाको पर अभी तक अधिकारियों, कर्मचारियों की पोस्टिंग नहीं की गयी है। जबकि सोमवार से धान खरीदी की जानी है। जानकारी के मुताबिक सबसे ज्यादा उत्तरप्रदेश राज्य से किसान यूपी की धान लाकर चितरंगी के रास्ते जिले के खरीदी केन्द्रों में पहुंचाते हैं। जिसको लेकर पहले से तैयारियां हो जानी चाहिए थी, लेकिन अब तक नाको में कर्मचारियों की तैनाती न किया जाना कहीं न कहीं विभाग के अधिकारियों की लापरवाही को दर्शाता है।

इनका कहना है
धान खरीदी को लेकर 53 केन्द्र बनाये गये हैं। जहां खरीदी को लेकर लगभग पूरी तैयारियां कर ली गयी हैं। सोमवार से केन्द्रों में धान की खरीदी प्रारंभ की जायेगी। जिले को 1 लाख 20 हजार मैट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य मिला है। अभी तक नाके में कर्मचारियों की पोस्टिंग नहीं की गयी है। इसकी सूची एडीएम के यहां तैयार हो रही है।
पीसी चन्द्रवंशी
खाद्य आपूर्ति अधिकारी

नव भारत न्यूज

Next Post

पन्ना नाका में बेकाबू कार ने मां-बेटे को टक्कर मार नाले में गिरी

Sun Nov 27 , 2022
सतना: पन्ना नाका में एक बेकाबू कार सड़क किनारे सब्जी बेच रहे मां-बेटे को टक्कर मारकर नाले में जा घुसी। हादसे में कार सवार, एक बच्चा समेत 5 लोगों को चोट आई हैं। बताया जाता है कि पन्ना नाका क्षेत्र में पेट्रोल पंप के सामने वैगनार एम पी21सी ए 0829 […]