लंपी: मौत का सरकारी आंकड़ा 26

मंदसौर: सरकारी आंकड़ों के अनुसार अभी तक लंपी वायरस से 26 पशुओं की मौत हो चुकी है। लेकिन डॉक्टरों की कमी लंपी से जंग लडऩे में परेशानी पैदा कर रही है। जिले में 14 पशु चिकित्सक व 40 सहायक हैं। लंपी वायरस के लक्षण अब हर गांव में देखे जा रहे हैं। जिले में सबसे पहले पुष्टि होने वाले धमनार क्षेत्र में करीब 50 से अधिक गायें संक्रमित हैं। 8 ने दम तोड़ दिया है, इस क्षेत्र में एक ही पशु चिकित्सक को रिछालालमुंहा, नगरी व धमनार क्षेत्र को देखना पड़ रहा है। यही स्थिति अन्य क्षेत्रों की भी है। इससे सभी पशुओं की वास्तविक स्थिति को जानना चिकित्सकों के लिए असंभव है। वे वही जानकारी दे रहे, जहां उनको रिपोर्ट मिल रही। ऐसे में सरकारी आंकड़ों में महज 26 पशुओं की मौत हुई है जबकि हकीकत में ये आंकड़े अधिक हैं।
वैक्सीन भी खत्म
प्रशासन के पास रोकथाम के लिए एकमात्र विकल्प वैक्सीन थी, वह भी खत्म हो गई है। यह कब तक आएगी, अधिकारियों को जानकारी नहीं है। ऐसे में स्वस्थ पशुओं पर भी खतरा मंडराने लगा है। पशुपालक निजी डॉक्टरों और औषधियों के भरोसे हैं। सरकारी आंकड़ों पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। स्टाफ की कमी के चलते मौके पर जाकर रिपोर्ट देने वाले चिकित्सक सभी जगह नहीं पहुंच पा रहे, इससे मौतों की जानकारी सही दर्ज नहीं हो पा रही।

नव भारत न्यूज

Next Post

महिलाओं के सम्मान में थाने होंगे हाईटेक

Tue Sep 27 , 2022
खंडवा: आदिशक्ति यानी देवी की आराधना और महिलाओं का सम्मान,उनकी सुरक्षा पर 9 दिन तक खंडवा पुलिस भी महिलाओं के प्रति अपने सिस्टम में अधिक चुस्ती और दुरुस्ती ला रही है। इसके लिए बाकायदा महिलाओं के संरक्षण और सुरक्षा पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।कलेक्टर अनूप सिंह और एसपी […]