पहले दिन ही विपक्ष ने दिखाए तेवर

सदन क़े अंदर शहर विकास पर चर्चा, बाहर निगमायुक्त हटाओ क़े नारे लगे

जबलपुर: लंबे अर्से बाद नगर निगम के पं. भवानी प्रसाद तिवारी सभाकक्ष में धारा-30 की बैठक शुरू हुई। पहले श्रृद्धांजलि सभा हुई,और सभी पार्षदों का परिचय में हुआ। बैठक क़े प्रारंभ में महापौर जगत बहादुर सिह अन्नू ने स्पष्ट किया कि वे शहर विकास के लिए दलगत राजनीति से ऊपर उठकर काम करेंगे।नगर निगम की सदन की पहली बैठक में महापौर ने एक शेर क़े जरिये तकरार छोड़ने और प्यार क़े दीप जलाने की बात करतें हुए एकजूट होने की बात की किंतु इन बातों क़े इतर कुछ ही देर बाद बैठक में मुद्दों को लेकर टकराव की स्थिति निर्मित हो गई। यद्यपि महापौर ने सदस्यों से सदन और अध्यक्ष की आसंदी की गरिमा बनाए रखने का आव्हान किया, इसके बाद भी विपक्ष ने तेवर दिखाना नहीं छोड़ा।

विपक्ष की ओर से भाजपा पार्षद कमलेश अग्रवाल ने कहा कि एक ओर मेयर सभी को साथ लेकर चलने की बात कह रहे हैं ,लेकिन चुनाव के दो माह बीत जाने के बाद भी उन्होंने भाजपा के किसी पार्षद को बुलाकर चर्चा तक नहीं की। उन्होंने कहा कि भाजपा को विपक्ष में रहने का अनुभव है, इसलिए सत्तापक्ष ध्यान रखे कि हम विकास में तो पूरा सहयोग करेंगे,लेकिन यदि कहीं हमें दरकिनार किया गया तो यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने पहले ही दिन मेयर पर निशाना साधा कि चुनाव के पूर्व पानी गिरा तो मेयर ने गली मोहल्लों में जाकर स्थिति का जायजा लिया,लेकिन चुनाव जीतने के बाद जब बारिश हुई तो वे नहीं दिखे। कमलेश अग्रवाल ने कहा कि चुनाव के दौरान बड़े-बड़े वादे किए गए उन्हें भी महापौर न भूलें, बैठक के प्रारंभ में महापौर एवं नगर निगम अध्यक्ष रिंकू विज सहित सभी पार्षदों ने जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती,श्यामदेवाचार्य,स्वर कोकिला लता मंगेशकर,पूर्व पार्षद दुर्गा पटेल,धर्मेद्र सोनकर, रीना राजपूत सहित अन्य दिवंगतों को श्रृद्धांजलि दी गई। इसके बाद सभी पार्षदों ने बारी-बारी अपना परिचय भी दिया।
कमलेश -महेश ने सम्भाला मोर्चा
सदन की बैठक में भाजपा पार्षद दल बिना नेता प्रतिपक्ष क़े उतरा, लेकिन अनुभवी कमलेश अग्रवाल और महेश राजपूत ने कई मुद्दों पर सत्तापक्ष को घेरते हुए कमी नहीं खलने दी। भोजन अवकाश के बाद सदन की हुई बैठक में सदस्यों ने सफाई, प्रकाश, जल व्यवस्था,शूकरों क़े निर्बाध विचरण पर चिंता जताई तथा अपने-अपने वार्डों की समस्यायों की ओर सदन का ध्यान आकृष्ट कराया और अति शीघ्र इसके निदान की अपेक्षा की। विपक्ष की ओर से नर्मदा में मिल् रहे गंदे नालों पर भी अब तक हुए कामों का ब्यौरा मांगा गया । सदन की बैठक कल भी आहूत की गई है।

एक ओर बैठक दूसरी ओर कर्मचारियों की हड़ताल

एक तरफ नगर की नई सरकार की सदन में पहली बैठक थी तो दूसरी तरफ तकनीकी अधिकारी कर्मचारी संघ ने नगर निगम आयुक्त पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए आज कामबंद हड़ताल कर दी। जहां सदन के अंदर बैठक चल रही थी तो वहीं दूसरी ओर कर्मचारी नगर निगम में चक्कर लगाकर नारेबाजी कर रहे थे। कर्मचारी नेता योगेंद्र दुबे, राम दुबे, कपिल दुबे ने कहा कि निगमायुक्त कर्मचारियों को बेवजह प्रताड़ित कर रहे हैं, इसलिए हड़ताल तब तक जारी रहेगी जब तक उनका तबादला नहीं होता। इसके अतिरिक्त भी कर्मचारियों की अनेक मांगे हैं जिनक़े पूरा न होने पर आक्रोश बढ़ रहा है।

नव भारत न्यूज

Next Post

फर्जी नर्सिंग कॉलेज मामले में सुनवाई बढ़ी

Thu Sep 22 , 2022
जबलपुर: प्रदेश में फर्जी तथा नियम विरुद्ध तरीके से संचालित नर्सिंग कॉलेजों को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गयी थी। याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने पूर्व में मप्र नर्सिंग रजिस्ट्रेशन कौसिंल के रजिस्ट्रार को तत्काल निलंबित कर प्रशासक नियुक्त करने के आदेश जारी किये […]