पूर्व बिशप ने पत्नी को चर्चों की 8 संस्थाओं में बना दिया पदाधिकारी-मैनेजर!

जबलपुर: ईओडब्ल्यू के शिकंजे में फंसे द बोर्ड आफ एजुकेशन चर्च आफ नार्थ इंडिया जबलपुर डायोसिस के चेयरमैन व बिशप पद से हटाए गए पीसी सिंह के प्रकरण में जैसे-जैसे जांच का दायरा बढ़ता जा रहा हैं वैसे-वैसे पूर्व बिशप का काला चि_ा खुलता जा रहा हैं। हर दिन उसके काले कारनामों की शिकायतें ईओडब्ल्यू के पास पहुंच रही हैं औन नए-नए चौकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक ईओडब्ल्यू के पास एक शिकायत ऐसी पहुंची हैं जिसमें पूर्व बिशप ने अपनी पत्नी रोना सिंह को अवैध लाभ पहुंचाया हैं। उसने पत्नी को चर्चों की 8 संस्थाओं में पदाधिकारी व मैनेजर बनाया हैं। सभी संस्थाओं से हर माह रोना सिंह को मोटी तनख्वाह भी मिलती थी। इतना ही नहीं एक ही समय में उपस्थिति भी दर्ज होती थी और हर माह की तनख्वाह भी निकाल ली जाती थी। उक्त शिकायत पर भी ईओडब्ल्यू ने पड़ताल तेज कर दी हैं।
पुत्र के बाद पत्नी का काला चिट्टा उजागर
बिशप पद पर रहते हुए पीसी सिंह ने आइसीएससी कोएड क्राइस्ट चर्च स्कूल में अपने बेटे पीयूष को नियम विरुद्ध तरीके से प्राचार्य बना दिया था। जिसकी जांच चल ही रही हैं कि अब पीसी सिंह की पत्नी का काला चिट्टा उजागर हो गया हैं। पीसी सिंह ने अपने पदों का गलत उपयोग करते हुए पत्नी को भी चर्चा की आठ संस्थाओं में पदाधिकारी व मैनेजर बनाया था। उसकी पत्नी रोना सिंह दमोह, कटनी, जबलपुर समेत अन्य जिलों मेें पदस्थ थी। जिसकी शिकायत ईओडब्ल्यू से हुई हैं साथ ही शिकायतकर्ता ने जांच के बाद कार्रवाई की मांग की हैं।
राजदार जैकेब के बेटे को भी बनाया प्रचार्य
पूर्व बिशप ने अपने राजदार सुरेश जैकब के बेटे को भी प्राचार्य बनाया था। जैकब के पुत्र क्षितिज को सालीवाड़ा क्राइस्ट चर्च स्कूल का प्राचार्य बना गया। ईओडब्ल्यू की टीम अब यह पता लगा रही है कि क्षितिज वास्तव में प्राचार्य पद के लायक योग्यता रखता है या नहीं। वहीं पीसी सिंह के राजदार को ईओडब्ल्यू ने पूर्व में नोटिस जारी कर तलब किया था परंतु वह अब तक गायब हैं जिसकी भी ईओडब्ल्यू तलाश में हैं जिसके पकड़े जाने के बाद कई राज खुल सकते हैं।
8 को नोटिस, 2 नहीं हुए तलब
सूत्रों के मुताबिक पूर्व बिशप पर दर्ज हुए प्रकरण संबंधी जानकारी के लिए ईओडब्ल्यू ने आठ लोगों को नोटिस जारी किए थे। ये सभी बिशप की के करीबी होने के साथ-साथ सोसायटी और स्कूल से जुड़े हैं। नोटिस जारी होने के बाद 5 लोगों ने तो बयान दर्ज करवा दिए लेकिन जैकब एवं एक अन्य अब तक गायब हैं।
ईडी ने जांच की तेज
ईओडब्ल्यू ने ईडी को प्रकरण संबंधी एफआईआर सहित अन्य जानकारियां भेज दी हैं। ईओडब्ल्यू के साथ अब ईडी ने भी जांच तेज कर दी हैं। कई बिन्दुओं पर जांच चल रही हैं जिसके बाद पूर्व बिशप के नए कांड उजागर होने की उम्मीद हैं।

नव भारत न्यूज

Next Post

कोई भी कार्यकर्ता लड़ सकता है कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव : राहुल

Thu Sep 22 , 2022
कुरुकुट्टी, केरल, 22 सितंबर (वार्ता) कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष एक विचारधारा तथा देश के भरोसे का प्रतिनिधित्व करता है और कोई भी कांग्रेस कार्यकर्ता अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ सकता है । श्री गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के 15वें […]